shahr-e-sadmaat se aage nahin jaane waala | शहर-ए-सदमात से आगे नहीं जाने वाला - Ahmad Khayal

shahr-e-sadmaat se aage nahin jaane waala
main tiri zaat se aage nahin jaane waala

tu bhi auqaat mein rah mujh se jhagadne waale
main bhi auqaat se aage nahin jaane waala

aise lagta hai meri jaan taalluq apna
is mulaqaat se aage nahin jaane waala

aaj ki raat hai bas noor ki kirnon ka jalaal
deep is raat se aage nahin jaane waala

mere kashkol mein daal aur zara izz ki main
itni khairaat se aage nahin jaane waala

शहर-ए-सदमात से आगे नहीं जाने वाला
मैं तिरी ज़ात से आगे नहीं जाने वाला

तू भी औक़ात में रह मुझ से झगड़ने वाले
मैं भी औक़ात से आगे नहीं जाने वाला

ऐसे लगता है मिरी जान तअल्लुक़ अपना
इस मुलाक़ात से आगे नहीं जाने वाला

आज की रात है बस नूर की किरनों का जलाल
दीप इस रात से आगे नहीं जाने वाला

मेरे कश्कोल में डाल और ज़रा इज्ज़ कि मैं
इतनी ख़ैरात से आगे नहीं जाने वाला

- Ahmad Khayal
0 Likes

Visaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Visaal Shayari Shayari