kal raat ik ajeeb paheli hui hawa | कल रात इक अजीब पहेली हुई हवा - Ahmad Khayal

kal raat ik ajeeb paheli hui hawa
jalte hue diyon ki saheli hui hawa

shiddat se haap haap ke murda si ho chuki
vehshat-zada charaagh se kheli hui hawa

paltee to daastaan bhi paltegi ek dam
waadi ki band samt dhakeli hui hua

sab paat jhad chuke hain diye bhi shikasta hain
raqs o junoon ki rut mein akeli hui hua

khidki se aate hi mare maathe ko chhooti hai
us mehrbaan ki si hatheli hui hua

कल रात इक अजीब पहेली हुई हवा
जलते हुए दियों की सहेली हुई हवा

शिद्दत से हाँप हाँप के मुर्दा सी हो चुकी
वहशत-ज़दा चराग़ से खेली हुई हवा

पलटी तो दास्तान भी पलटेगी एक दम
वादी की बंद सम्त धकेली हुई हुआ

सब पात झड़ चुके हैं दिये भी शिकस्ता हैं
रक़्स ओ जुनूँ की रुत में अकेली हुई हुआ

खिड़की से आते ही मरे माथे को छूती है
उस मेहरबान की सी हथेली हुई हुआ

- Ahmad Khayal
0 Likes

Diwangi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Diwangi Shayari Shayari