fana ke dasht mein kab ka utar gaya tha main | फ़ना के दश्त में कब का उतर गया था मैं - Ahmad Khayal

fana ke dasht mein kab ka utar gaya tha main
tumhaara saath na hota to mar gaya tha main

kisi ke dast-e-hunar ne mujhe samet liya
wagarana paat ki soorat bikhar gaya tha main

vo khush-jamaal chaman se guzar ke aaya to
mahak uthe the gulaab aur nikhar gaya tha main

koi to dasht samundar mein dhal gaya aakhir
kisi ke hijr mein ro ro ke bhar gaya tha main

फ़ना के दश्त में कब का उतर गया था मैं
तुम्हारा साथ न होता तो मर गया था मैं

किसी के दस्त-ए-हुनर ने मुझे समेट लिया
वगरना पात की सूरत बिखर गया था मैं

वो ख़ुश-जमाल चमन से गुज़र के आया तो
महक उठे थे गुलाब और निखर गया था मैं

कोई तो दश्त समुंदर में ढल गया आख़िर
किसी के हिज्र में रो रो के भर गया था मैं

- Ahmad Khayal
0 Likes

Hijrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Hijrat Shayari Shayari