main vehshat-o-junoon mein tamasha nahin bana | मैं वहशत-ओ-जुनूँ में तमाशा नहीं बना - Ahmad Khayal

main vehshat-o-junoon mein tamasha nahin bana
sehra mere vujood ka hissa nahin bana

is baar kooza-gar ki tavajjoh thi aur samt
warna hamaari khaak se kya kya nahin bana

soi hui ana mere aadhe rahi sada
koshish ke baawajood bhi qaasa nahin bana

ye bhi tiri shikast nahin hai to aur kya
jaisa tu chahta tha main waisa nahin bana

warna ham aise log kahaan theharte yahan
ham se falak ki samt ka zeena nahin bana

jitne kamaal-rang the saare liye gaye
phir bhi tire jamaal ka naqsha nahin bana

roka gaya hai waqt se pehle hi mera chaak
mujh ko ye lag raha hai main poora nahin bana

मैं वहशत-ओ-जुनूँ में तमाशा नहीं बना
सहरा मिरे वजूद का हिस्सा नहीं बना

इस बार कूज़ा-गर की तवज्जोह थी और सम्त
वर्ना हमारी ख़ाक से क्या क्या नहीं बना

सोई हुई अना मिरे आड़े रही सदा
कोशिश के बावजूद भी कासा नहीं बना

ये भी तिरी शिकस्त नहीं है तो और क्या
जैसा तू चाहता था मैं वैसा नहीं बना

वर्ना हम ऐसे लोग कहाँ ठहरते यहाँ
हम से फ़लक की सम्त का ज़ीना नहीं बना

जितने कमाल-रंग थे सारे लिए गए
फिर भी तिरे जमाल का नक़्शा नहीं बना

रोका गया है वक़्त से पहले ही मेरा चाक
मुझ को ये लग रहा है मैं पूरा नहीं बना

- Ahmad Khayal
0 Likes

Mehndi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Mehndi Shayari Shayari