jaane kahaan the aur chale the kahaan se ham | जाने कहाँ थे और चले थे कहाँ से हम - Ahmad Nadeem Qasmi

jaane kahaan the aur chale the kahaan se ham
bedaar ho gaye kisi khwaab-e-giraan se ham

ai nau-bahaar-e-naaz tiri nikhaton ki khair
daaman jhatak ke nikle tire gulsitaan se ham

pindaar-e-aashiqi ki amaanat hai aah-e-sard
ye teer aaj chhod rahe hain kamaan se ham

aao ghubaar-e-raah mein dhunden shameem-e-naaz
aao khabar bahaar ki poochen khizaan se ham

aakhir dua karein bhi to kis muddaa ke saath
kaise zameen ki baat kahein aasmaan se ham

जाने कहाँ थे और चले थे कहाँ से हम
बेदार हो गए किसी ख़्वाब-ए-गिराँ से हम

ऐ नौ-बहार-ए-नाज़ तिरी निकहतों की ख़ैर
दामन झटक के निकले तिरे गुल्सिताँ से हम

पिंदार-ए-आशिक़ी की अमानत है आह-ए-सर्द
ये तीर आज छोड़ रहे हैं कमाँ से हम

आओ ग़ुबार-ए-राह में ढूँडें शमीम-ए-नाज़
आओ ख़बर बहार की पूछें ख़िज़ाँ से हम

आख़िर दुआ करें भी तो किस मुद्दआ' के साथ
कैसे ज़मीं की बात कहें आसमाँ से हम

- Ahmad Nadeem Qasmi
0 Likes

Birthday Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Birthday Shayari Shayari