kaun kehta hai ki maut aayi to mar jaaunga | कौन कहता है कि मौत आई तो मर जाऊँगा - Ahmad Nadeem Qasmi

kaun kehta hai ki maut aayi to mar jaaunga
main to dariya hoon samundar mein utar jaaunga

tera dar chhod ke main aur kidhar jaaunga
ghar mein ghir jaaunga sehra mein bikhar jaaunga

tere pahluu se jo uththoonga to mushkil ye hai
sirf ik shakhs ko paaoonga jidhar jaaunga

ab tire shehar mein aaunga musaafir ki tarah
saaya-e-abr ki maanind guzar jaaunga

tera paimaan-e-wafa raah ki deewaar bana
warna socha tha ki jab chaahunga mar jaaunga

chaarasaazon se alag hai mera mea'ar ki main
zakham khaaunga to kuchh aur sanwar jaaunga

ab to khurshid ko guzre hue sadiyaan guzriin
ab use dhoondhne main ta-b-sehr jaaunga

zindagi sham'a ki maanind jalata hoon nadeem
bujh to jaaunga magar subh to kar jaaunga

कौन कहता है कि मौत आई तो मर जाऊँगा
मैं तो दरिया हूँ समुंदर में उतर जाऊँगा

तेरा दर छोड़ के मैं और किधर जाऊँगा
घर में घिर जाऊँगा सहरा में बिखर जाऊँगा

तेरे पहलू से जो उठ्ठूँगा तो मुश्किल ये है
सिर्फ़ इक शख़्स को पाऊँगा जिधर जाऊँगा

अब तिरे शहर में आऊँगा मुसाफ़िर की तरह
साया-ए-अब्र की मानिंद गुज़र जाऊँगा

तेरा पैमान-ए-वफ़ा राह की दीवार बना
वर्ना सोचा था कि जब चाहूँगा मर जाऊँगा

चारासाज़ों से अलग है मिरा मेआ'र कि मैं
ज़ख़्म खाऊँगा तो कुछ और सँवर जाऊँगा

अब तो ख़ुर्शीद को गुज़रे हुए सदियाँ गुज़रीं
अब उसे ढूँडने मैं ता-ब-सहर जाऊँगा

ज़िंदगी शम्अ' की मानिंद जलाता हूँ 'नदीम'
बुझ तो जाऊँगा मगर सुब्ह तो कर जाऊँगा

- Ahmad Nadeem Qasmi
1 Like

Musafir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Nadeem Qasmi

As you were reading Shayari by Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Nadeem Qasmi

Similar Moods

As you were reading Musafir Shayari Shayari