charkh se kuch umeed thi hi nahin | चर्ख़ से कुछ उमीद थी ही नहीं - Akbar Allahabadi

charkh se kuch umeed thi hi nahin
aarzoo main ne koi ki hi nahin

mazhabi bahs main ne ki hi nahin
faaltu aql mujh mein thi hi nahin

chahta tha bahut si baaton ko
magar afsos ab vo jee hi nahin

jurat-e-arz-e-haal kya hoti
nazar-e-lutf us ne ki hi nahin

is museebat mein dil se kya kehta
koi aisi misaal thi hi nahin

aap kya jaanen qadr-e-ya-allah
jab museebat koi padi hi nahin

shirk chhodaa to sab ne chhod diya
meri koi society hi nahin

poocha akbar hai aadmi kaisa
hans ke bole vo aadmi hi nahin

चर्ख़ से कुछ उमीद थी ही नहीं
आरज़ू मैं ने कोई की ही नहीं

मज़हबी बहस मैं ने की ही नहीं
फ़ालतू अक़्ल मुझ में थी ही नहीं

चाहता था बहुत सी बातों को
मगर अफ़्सोस अब वो जी ही नहीं

जुरअत-ए-अर्ज़-ए-हाल क्या होती
नज़र-ए-लुत्फ़ उस ने की ही नहीं

इस मुसीबत में दिल से क्या कहता
कोई ऐसी मिसाल थी ही नहीं

आप क्या जानें क़द्र-ए-या-अल्लाह
जब मुसीबत कोई पड़ी ही नहीं

शिर्क छोड़ा तो सब ने छोड़ दिया
मेरी कोई सोसाइटी ही नहीं

पूछा 'अकबर' है आदमी कैसा
हँस के बोले वो आदमी ही नहीं

- Akbar Allahabadi
1 Like

Insaan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Insaan Shayari Shayari