kya jaaniye sayyad the haq aagaah kahaan tak | क्या जानिए सय्यद थे हक़ आगाह कहाँ तक - Akbar Allahabadi

kya jaaniye sayyad the haq aagaah kahaan tak
samjhe na ki seedhi hai meri raah kahaan tak

mantiq bhi to ik cheez hai ai qibla o kaaba
de sakti hai kaam aap ki wallaah kahaan tak

aflaak to is ahad mein saabit hue maadum
ab kya kahoon jaati hai meri aah kahaan tak

kuchh sanat o hirfat pe bhi laazim hai tavajjoh
aakhir ye government se tankhwaah kahaan tak

marna bhi zaroori hai khuda bhi hai koi cheez
ai hirs ke bando hawas-e-jaah kahaan tak

tahseen ke laayiq tira har sher hai akbar
ahbaab karein bazm mein ab waah kahaan tak

क्या जानिए सय्यद थे हक़ आगाह कहाँ तक
समझे न कि सीधी है मिरी राह कहाँ तक

मंतिक़ भी तो इक चीज़ है ऐ क़िबला ओ काबा
दे सकती है काम आप की वल्लाह कहाँ तक

अफ़्लाक तो इस अहद में साबित हुए मादूम
अब क्या कहूँ जाती है मिरी आह कहाँ तक

कुछ सनअत ओ हिरफ़त पे भी लाज़िम है तवज्जोह
आख़िर ये गवर्नमेंट से तनख़्वाह कहाँ तक

मरना भी ज़रूरी है ख़ुदा भी है कोई चीज़
ऐ हिर्स के बंदो हवस-ए-जाह कहाँ तक

तहसीन के लायक़ तिरा हर शेर है 'अकबर'
अहबाब करें बज़्म में अब वाह कहाँ तक

- Akbar Allahabadi
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari