chand uljhi hui saanson ki ata hoon kya hoon | चंद उलझी हुई साँसों की अता हूँ क्या हूँ - Akhtar Saeed Khan

chand uljhi hui saanson ki ata hoon kya hoon
main charaagh-e-tah-e-daaman-e-saba hoon kya hoon

har nafs hai mera parvarda-e-aaghosh-e-bala
apne naa-karda gunaahon ki saza hoon kya hoon

mujh pe khulta hi nahin mera sitam-deeda vujood
koi patthar hoon ki gum-karda sada hoon kya hoon

dil mein hoon aur zabaan par kabhi aata bhi nahin
main koi bhola hua harf-e-dua hoon kya hoon

main safar mein hoon magar samt-e-safar koi nahin
kya main khud apna hi naqsh-e-kaf-e-paa hoon kya hoon

main ne dekha hi nahin jaagti aankhon se kabhi
koi uqda hoon ki khud uqda-kusha hoon kya hoon

poochta hai mera pairahan-e-hasti mujh se
main qaba hoon ki faqat band-e-qaba hoon kya hoon

dil ki aur meri zabaan ek hai phir bhi akhtar
lafz o ma'ni ki pur-asraar fazaa hoon kya hoon

चंद उलझी हुई साँसों की अता हूँ क्या हूँ
मैं चराग़-ए-तह-ए-दामान-ए-सबा हूँ क्या हूँ

हर नफ़स है मिरा पर्वर्दा-ए-आग़ोश-ए-बला
अपने ना-कर्दा गुनाहों की सज़ा हूँ क्या हूँ

मुझ पे खुलता ही नहीं मेरा सितम-दीदा वजूद
कोई पत्थर हूँ कि गुम-कर्दा सदा हूँ क्या हूँ

दिल में हूँ और ज़बाँ पर कभी आता भी नहीं
मैं कोई भोला हुआ हर्फ़-ए-दुआ हूँ क्या हूँ

मैं सफ़र में हूँ मगर सम्त-ए-सफ़र कोई नहीं
क्या मैं ख़ुद अपना ही नक़्श-ए-कफ़-ए-पा हूँ क्या हूँ

मैं ने देखा ही नहीं जागती आँखों से कभी
कोई उक़्दा हूँ कि ख़ुद उक़्दा-कुशा हूँ क्या हूँ

पूछता है मिरा पैराहन-ए-हस्ती मुझ से
मैं क़बा हूँ कि फ़क़त बंद-ए-क़बा हूँ क्या हूँ

दिल की और मेरी ज़बाँ एक है फिर भी 'अख़्तर'
लफ़्ज़ ओ मअनी की पुर-असरार फ़ज़ा हूँ क्या हूँ

- Akhtar Saeed Khan
1 Like

Justice Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Justice Shayari Shayari