sair-gaah-e-duniya ka haasil-e-tamaasha kya | सैर-गाह-ए-दुनिया का हासिल-ए-तमाशा क्या - Akhtar Saeed Khan

sair-gaah-e-duniya ka haasil-e-tamaasha kya
rang-o-nikhat-e-gul par apna tha ijaara kya

khel hai mohabbat mein jaan o dil ka sauda kya
dekhiye dikhaati hai ab ye zindagi kya kya

jab bhi jee umad aaya ro liye ghadi bhar ko
aansuon ki baarish se mausamon ka rishta kya

kab sar-e-nazaara tha ham ko bazm-e-aalam ka
yun bhi dekh kar tum ko aur dekhna tha kya

dard be-dava apna bakht na-rasa apna
ai nigaah-e-be-parva tujh se ham ko shikwa kya

be-sawaal aankhon se munh chhupa rahe ho kyun
meri chashm-e-haira'n mein hai koi taqaza kya

haal hai na maazi hai waqt ka tasalsul hai
raat ka andhera kya subh ka ujaala kya

jo hai jee mein kah deeje un ke roo-b-roo akhtar
arz-e-haal ki khaatir dhoondiye bahaana kya

सैर-गाह-ए-दुनिया का हासिल-ए-तमाशा क्या
रंग-ओ-निकहत-ए-गुल पर अपना था इजारा क्या

खेल है मोहब्बत में जान ओ दिल का सौदा क्या
देखिए दिखाती है अब ये ज़िंदगी क्या क्या

जब भी जी उमड आया रो लिए घड़ी भर को
आँसुओं की बारिश से मौसमों का रिश्ता क्या

कब सर-ए-नज़ारा था हम को बज़्म-ए-आलम का
यूँ भी देख कर तुम को और देखना था क्या

दर्द बे-दवा अपना बख़्त ना-रसा अपना
ऐ निगाह-ए-बे-परवा तुझ से हम को शिकवा क्या

बे-सवाल आँखों से मुँह छुपा रहे हो क्यूँ
मेरी चश्म-ए-हैराँ में है कोई तक़ाज़ा क्या

हाल है न माज़ी है वक़्त का तसलसुल है
रात का अंधेरा क्या सुब्ह का उजाला क्या

जो है जी में कह दीजे उन के रू-ब-रू 'अख़्तर'
अर्ज़-ए-हाल की ख़ातिर ढूँडिए बहाना क्या

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari