maal-e-gardish-e-lail-o-nahaar kuchh bhi nahin | मआल-ए-गर्दिश-ए-लैल-ओ-नहार कुछ भी नहीं - Akhtar Saeed Khan

maal-e-gardish-e-lail-o-nahaar kuchh bhi nahin
hazaar naqsh hain aur aashkaar kuchh bhi nahin

har ek mod pe duniya ko ham ne dekh liya
sivaae kashmakash-e-rozgaar kuchh bhi nahin

nishaan-e-raah mile bhi yahan to kaise mile
sivaae khaak-e-sar-e-rahguzaar kuchh bhi nahin

bahut qareeb rahi hai ye zindagi ham se
bahut aziz sahi e'tibaar kuchh bhi nahin

na ban pada ki garebaan ke chaak si lete
shu'ur ho ki junoon ikhtiyaar kuchh bhi nahin

khile jo phool vo dasht-e-khizaan ne cheen liye
naseeb-e-daaman-e-fasl-e-bahaar kuchh bhi nahin

zamaana ishq ke maaron ko maat kya dega
dilon ke khel mein ye jeet haar kuchh bhi nahin

ye mera shehar hai main kaise maan luun akhtar
na rasm-o-raah na vo ku-e-yaar kuchh bhi nahin

मआल-ए-गर्दिश-ए-लैल-ओ-नहार कुछ भी नहीं
हज़ार नक़्श हैं और आश्कार कुछ भी नहीं

हर एक मोड़ पे दुनिया को हम ने देख लिया
सिवाए कश्मकश-ए-रोज़गार कुछ भी नहीं

निशान-ए-राह मिले भी यहाँ तो कैसे मिले
सिवाए ख़ाक-ए-सर-ए-रहगुज़ार कुछ भी नहीं

बहुत क़रीब रही है ये ज़िंदगी हम से
बहुत अज़ीज़ सही ए'तिबार कुछ भी नहीं

न बन पड़ा कि गरेबाँ के चाक सी लेते
शुऊ'र हो कि जुनूँ इख़्तियार कुछ भी नहीं

खिले जो फूल वो दस्त-ए-ख़िज़ाँ ने छीन लिए
नसीब-ए-दामन-ए-फ़स्ल-ए-बहार कुछ भी नहीं

ज़माना इश्क़ के मारों को मात क्या देगा
दिलों के खेल में ये जीत हार कुछ भी नहीं

ये मेरा शहर है मैं कैसे मान लूँ 'अख़्तर'
न रस्म-ओ-राह न वो कू-ए-यार कुछ भी नहीं

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Phool Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Phool Shayari Shayari