phirti hai zindagi janaaza-b-dosh | फिरती है ज़िंदगी जनाज़ा-ब-दोश - Akhtar Saeed Khan

phirti hai zindagi janaaza-b-dosh
but bhi chup hain khuda bhi hai khaamosh

koi meri tarah jiye to sahi
zindagi dar-guloo ajal bar-dosh

deedaani thi ye kaayenaat bahut
ham bhi kuchh din rahe kharaab-e-hosh

ghar se tauf-e-haram ko nikla tha
raah mein thi dukaan-e-badaa-farosh

ik ta'alluq qadam ko raah se hai
main na aawaara hoon na khaana-b-dosh

ham se ghaafil nahin hain ahl-e-sitam
ik zara thak ke ho gaye hain khamosh

jee mein hai koi aarzoo kijeye
ya'ni baaki hai sar mein masti hosh

hai ye duniya bahut wasi'a to ho
main hoon aur tera halka-e-aaghosh

dil ko rote kahaan talak akhtar
aakhir-kaar ho gaye khaamosh

फिरती है ज़िंदगी जनाज़ा-ब-दोश
बुत भी चुप हैं ख़ुदा भी है ख़ामोश

कोई मेरी तरह जिए तो सही
ज़िंदगी दर-गुलू अजल बर-दोश

दीदनी थी ये काएनात बहुत
हम भी कुछ दिन रहे ख़राब-ए-होश

घर से तौफ़-ए-हरम को निकला था
राह में थी दुकान-ए-बादा-फ़रोश

इक तअ'ल्लुक़ क़दम को राह से है
मैं न आवारा हूँ न ख़ाना-ब-दोश

हम से ग़ाफ़िल नहीं हैं अहल-ए-सितम
इक ज़रा थक के हो गए हैं ख़मोश

जी में है कोई आरज़ू कीजे
या'नी बाक़ी है सर में मस्ती होश

है ये दुनिया बहुत वसीअ' तो हो
मैं हूँ और तेरा हल्का-ए-आग़ोश

दिल को रोते कहाँ तलक 'अख़्तर'
आख़िर-कार हो गए ख़ामोश

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari