kahein kis se hamaara kho gaya kya | कहें किस से हमारा खो गया क्या - Akhtar Saeed Khan

kahein kis se hamaara kho gaya kya
kisi ko kya ki ham ko ho gaya kya

khuli aankhon nazar aata nahin kuchh
har ik se poochta hoon vo gaya kya

mujhe har baat par jhutla rahi hai
ye tujh bin zindagi ko ho gaya kya

udaasi raah ki kuchh kah rahi hai
musaafir raaste mein kho gaya kya

ye basti is qadar sunsaan kab thi
dil-e-shoreeda thak kar so gaya kya

chaman-aaraai thi jis gul ka sheva
meri raahon mein kaante bo gaya kya

कहें किस से हमारा खो गया क्या
किसी को क्या कि हम को हो गया क्या

खुली आँखों नज़र आता नहीं कुछ
हर इक से पूछता हूँ वो गया क्या

मुझे हर बात पर झुटला रही है
ये तुझ बिन ज़िंदगी को हो गया क्या

उदासी राह की कुछ कह रही है
मुसाफ़िर रास्ते में खो गया क्या

ये बस्ती इस क़दर सुनसान कब थी
दिल-ए-शोरीदा थक कर सो गया क्या

चमन-आराई थी जिस गुल का शेवा
मिरी राहों में काँटे बो गया क्या

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari