koi mujh se juda hua hai abhi | कोई मुझ से जुदा हुआ है अभी - Akhtar Saeed Khan

koi mujh se juda hua hai abhi
zindagi ek saanehaa hai abhi

nahin mauqa ye pursish-e-gham ka
dekhiye dil dukha hua hai abhi

kal guzar jaaye dil pe kya maaloom
ishq saada sa waqia hai abhi

baat pahunchee hai ik nazar mein kahaan
ham to samjhe the ibtida hai abhi

kitne nazdeek aa gaye hain vo
kis qadar un se fasla hai abhi

saari baatein ye khwaab ki si hain
zindagi door ki sada hai abhi

daar par kheenchte hain akhtar ko
jurm ye hai ki jee raha hai abhi

कोई मुझ से जुदा हुआ है अभी
ज़िंदगी एक सानेहा है अभी

नहीं मौक़ा ये पुर्सिश-ए-ग़म का
देखिए दिल दुखा हुआ है अभी

कल गुज़र जाए दिल पे क्या मालूम
इश्क़ सादा सा वाक़िआ' है अभी

बात पहुँची है इक नज़र में कहाँ
हम तो समझे थे इब्तिदा है अभी

कितने नज़दीक आ गए हैं वो
किस क़दर उन से फ़ासला है अभी

सारी बातें ये ख़्वाब की सी हैं
ज़िंदगी दूर की सदा है अभी

दार पर खींचते हैं 'अख़्तर' को
जुर्म ये है कि जी रहा है अभी

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari