yaad aayein jo ayyaam-e-bahaaraan to kidhar jaayen | याद आएँ जो अय्याम-ए-बहाराँ तो किधर जाएँ - Akhtar Saeed Khan

yaad aayein jo ayyaam-e-bahaaraan to kidhar jaayen
ye to koi chaara nahin sar phod ke mar jaayen

qadmon ke nishaan hain na koi meel ka patthar
is raah se ab jin ko guzarna hai guzar jaayen

rasmen hi badal di hain zamaane ne dilon ki
kis waz'a se us bazm mein ai deeda-e-tar jaayen

jaan dene ke daave hon ki paimaan-e-wafa ho
jee mein to ye aata hai ki ab ham bhi mukar jaayen

har mauj gale lag ke ye kahti hai thehar jaao
dariya ka ishaara hai ki ham paar utar jaayen

sheeshe se bhi naazuk hain inhen choo ke na dekho
aisa na ho aankhon ke haseen khwaab bikhar jaayen

tareek hue jaate hain badhte hue saaye
akhtar se kaho shaam hui aap bhi ghar jaayen

याद आएँ जो अय्याम-ए-बहाराँ तो किधर जाएँ
ये तो कोई चारा नहीं सर फोड़ के मर जाएँ

क़दमों के निशाँ हैं न कोई मील का पत्थर
इस राह से अब जिन को गुज़रना है गुज़र जाएँ

रस्में ही बदल दी हैं ज़माने ने दिलों की
किस वज़्अ से उस बज़्म में ऐ दीदा-ए-तर जाएँ

जाँ देने के दावे हों कि पैमान-ए-वफ़ा हो
जी में तो ये आता है कि अब हम भी मुकर जाएँ

हर मौज गले लग के ये कहती है ठहर जाओ
दरिया का इशारा है कि हम पार उतर जाएँ

शीशे से भी नाज़ुक हैं इन्हें छू के न देखो
ऐसा न हो आँखों के हसीं ख़्वाब बिखर जाएँ

तारीक हुए जाते हैं बढ़ते हुए साए
'अख़्तर' से कहो शाम हुई आप भी घर जाएँ

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari