ye andhera jo ayaan subh ki tanveer mein hai | ये अंधेरा जो अयाँ सुब्ह की तनवीर में है - Akhtar Saeed Khan

ye andhera jo ayaan subh ki tanveer mein hai
kuchh kami khoon-e-jigar ki abhi tasveer mein hai

ahl-e-taqdeer ne sar rakh diya jis ke aage
aaj vo uqda mere nakhoon-e-tadbeer mein hai

rang-e-gul rang-e-butaan rang-e-jabeen-e-mehnat
jo haseen rang hai shaamil meri tasveer mein hai

main ne jis khwaab ko aankhon mein basa rakha hai
tu bhi zalim mere us khwaab ki ta'beer mein hai

le udri mauj-e-bahaaraan ye alag hai warna
aaj bhi paanv mera khaana-e-zanjeer mein hai

vo mere poochne ko aaye hain sach-much akhtar
ya koi khwaab-e-haseen manzil-e-ta'beer mein hai

ये अंधेरा जो अयाँ सुब्ह की तनवीर में है
कुछ कमी ख़ून-ए-जिगर की अभी तस्वीर में है

अहल-ए-तक़दीर ने सर रख दिया जिस के आगे
आज वो उक़्दा मिरे नाख़ुन-ए-तदबीर में है

रंग-ए-गुल रंग-ए-बुताँ रंग-ए-जबीन-ए-मेहनत
जो हसीं रंग है शामिल मिरी तस्वीर में है

मैं ने जिस ख़्वाब को आँखों में बसा रक्खा है
तू भी ज़ालिम मिरे उस ख़्वाब की ता'बीर में है

ले उड़ी मौज-ए-बहाराँ ये अलग है वर्ना
आज भी पाँव मिरा ख़ाना-ए-ज़ंजीर में है

वो मिरे पूछने को आए हैं सच-मुच 'अख़्तर'
या कोई ख़्वाब-ए-हसीं मंज़िल-ए-ता'बीर में है

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari