kabhi zabaan pe na aaya ki aarzoo kya hai | कभी ज़बाँ पे न आया कि आरज़ू क्या है - Akhtar Saeed Khan

kabhi zabaan pe na aaya ki aarzoo kya hai
gareeb dil pe ajab hasraton ka saaya hai

saba ne jaagti aankhon ko choom choom liya
na jaane aakhir-e-shab intizaar kis ka hai

ye kis ki jalwagari kaayenaat hai meri
ki khaak ho ke bhi dil shola-e-tamanna hai

tiri nazar ki bahaar-aafreeniyaan tasleem
magar ye dil mein jo kaanta sa ik khatkata hai

jahaan-e-fikr-o-nazar ki uda rahi hai hasi
ye zindagi jo sar-e-rahguzar tamasha hai

ye dasht vo hai jahaan raasta nahin milta
abhi se laut chalo ghar abhi ujaala hai

yahi raha hai bas ik dil ke gham-gusaaron mein
thehar thehar ke jo aansu palak tak aata hai

thehar gaye ye kahaan aa ke roz o shab akhtar
ki aftaab hai sar par magar andhera hai

कभी ज़बाँ पे न आया कि आरज़ू क्या है
ग़रीब दिल पे अजब हसरतों का साया है

सबा ने जागती आँखों को चूम चूम लिया
न जाने आख़िर-ए-शब इंतिज़ार किस का है

ये किस की जल्वागरी काएनात है मेरी
कि ख़ाक हो के भी दिल शोला-ए-तमन्ना है

तिरी नज़र की बहार-आफ़रीनियाँ तस्लीम
मगर ये दिल में जो काँटा सा इक खटकता है

जहान-ए-फ़िक्र-ओ-नज़र की उड़ा रही है हँसी
ये ज़िंदगी जो सर-ए-रहगुज़र तमाशा है

ये दश्त वो है जहाँ रास्ता नहीं मिलता
अभी से लौट चलो घर अभी उजाला है

यही रहा है बस इक दिल के ग़म-गुसारों में
ठहर ठहर के जो आँसू पलक तक आता है

ठहर गए ये कहाँ आ के रोज़ ओ शब 'अख़्तर'
कि आफ़्ताब है सर पर मगर अँधेरा है

- Akhtar Saeed Khan
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Saeed Khan

As you were reading Shayari by Akhtar Saeed Khan

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Saeed Khan

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari