us ki chaah mein naam nahin aane waala | उस की चाह में नाम नहीं आने वाला - Akhtar Shumar

us ki chaah mein naam nahin aane waala
ab mera anjaam nahin aane waala

husn se kaam pada hai aakhiri saanson mein
aur vo kisi ke kaam nahin aane waala

meri sada par vo nazdeek to aayega
lekin zer-e-daam nahin aane waala

ek jhalak se pyaas ka rog badhega aur
is se mujhe aaraam nahin aane waala

ishq ke naam pe tera rang na badle yaar
tujh par kuchh ilzaam nahin aane waala

kaam ko baithe hain aur sar par aayi shaam
lagta hai ab kaam nahin aane waala

kyun be-kaar us shakhs ka rasta dekhte ho
vo to shumaar is shaam nahin aane waala

उस की चाह में नाम नहीं आने वाला
अब मेरा अंजाम नहीं आने वाला

हुस्न से काम पड़ा है आख़िरी साँसों में
और वो किसी के काम नहीं आने वाला

मेरी सदा पर वो नज़दीक तो आएगा
लेकिन ज़ेर-ए-दाम नहीं आने वाला

एक झलक से प्यास का रोग बढ़ेगा और
इस से मुझे आराम नहीं आने वाला

इश्क़ के नाम पे तेरा रंग न बदले यार
तुझ पर कुछ इल्ज़ाम नहीं आने वाला

काम को बैठे हैं और सर पर आई शाम
लगता है अब काम नहीं आने वाला

क्यूँ बे-कार उस शख़्स का रस्ता देखते हो
वो तो 'शुमार' इस शाम नहीं आने वाला

- Akhtar Shumar
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shumar

As you were reading Shayari by Akhtar Shumar

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shumar

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari