khwaahish-e-jaada-e-raahat se nikalta kaise | ख़्वाहिश-ए-जादा-ए-राहत से निकलता कैसे - Akhtar Shumar

khwaahish-e-jaada-e-raahat se nikalta kaise
dil mera koo-e-malaamat se nikalta kaise

saaya-e-vahm-o-gumaan chaar taraf faila hai
main abhi karb-o-aziyyat se nikalta kaise

meri ruswaai agar saath na deti mera
yun sar-e-bazm main izzat se nikalta kaise

meri nazrein jo na padtiin to wahan pichhli shab
ik sitaara sa tiri chat se nikalta kaise

main ki barbaad hua deed ki khaatir jis ki
vo mere deeda-e-hairat se nikalta kaise

us ke dam hi se to qaaim hai mera jaah-o-jalaal
vo mere dil ki hukoomat se nikalta kaise

jaag baitha hoon to dil dooba nahin hai akhtar
soya rehta to museebat se nikalta kaise

ख़्वाहिश-ए-जादा-ए-राहत से निकलता कैसे
दिल मिरा कू-ए-मलामत से निकलता कैसे

साया-ए-वहम-ओ-गुमाँ चार तरफ़ फैला है
मैं अभी कर्ब-ओ-अज़िय्यत से निकलता कैसे

मेरी रुस्वाई अगर साथ न देती मेरा
यूँ सर-ए-बज़्म मैं इज़्ज़त से निकलता कैसे

मेरी नज़रें जो न पड़तीं तो वहाँ पिछली शब
इक सितारा सा तिरी छत से निकलता कैसे

मैं कि बर्बाद हुआ दीद की ख़ातिर जिस की
वो मिरे दीदा-ए-हैरत से निकलता कैसे

उस के दम ही से तो क़ाएम है मिरा जाह-ओ-जलाल
वो मिरे दिल की हुकूमत से निकलता कैसे

जाग बैठा हूँ तो दिल डूबा नहीं है 'अख़्तर'
सोया रहता तो मुसीबत से निकलता कैसे

- Akhtar Shumar
0 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shumar

As you were reading Shayari by Akhtar Shumar

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shumar

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari