larz utha hai mere dil mein kyun na jaane diya | लरज़ उठा है मिरे दिल में क्यूँ न जाने दिया - Akhtar Shumar

larz utha hai mere dil mein kyun na jaane diya
tira payaam to khaamosh si hawa ne diya

jala raha tha mujhe main ne bhi jalane diya
ujaala us ne diya bhi to kis bahaane diya

abhi kuchh aur thehar jaata mere kehne par
vo jaane waala tha khud hi so main ne jaane diya

vo apni sair ke qisse mujhe sunaata raha
mujhe to haal-e-dil us ne kahaan sunaane diya

main shukr us ka na kaise ada karoon jaanaan
shu'ur mujh ko mohabbat ka jis khuda ne diya

karam ke pal mein ye raushan hua ba-hamdillah
nahin bujhega mera tujh se ai zamaane diya

shumaar saamne us ke bhi guftugoo ke waqt
jo rang chehre pe aaya tha main ne aane diya

लरज़ उठा है मिरे दिल में क्यूँ न जाने दिया
तिरा पयाम तो ख़ामोश सी हवा ने दिया

जला रहा था मुझे मैं ने भी जलाने दिया
उजाला उस ने दिया भी तो किस बहाने दिया

अभी कुछ और ठहर जाता मेरे कहने पर
वो जाने वाला था ख़ुद ही सो मैं ने जाने दिया

वो अपनी सैर के क़िस्से मुझे सुनाता रहा
मुझे तो हाल-ए-दिल उस ने कहाँ सुनाने दिया

मैं शुक्र उस का न कैसे अदा करूँ जानाँ
शुऊ'र मुझ को मोहब्बत का जिस ख़ुदा ने दिया

करम के पल में ये रौशन हुआ ब-हम्दिल्लाह
नहीं बुझेगा मिरा तुझ से ऐ ज़माने दिया

'शुमार' सामने उस के भी गुफ़्तुगू के वक़्त
जो रंग चेहरे पे आया था मैं ने आने दिया

- Akhtar Shumar
0 Likes

Festive Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shumar

As you were reading Shayari by Akhtar Shumar

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shumar

Similar Moods

As you were reading Festive Shayari Shayari