vo jis ka aks lahu ko jaga diya karta | वो जिस का अक्स लहू को जगा दिया करता - Akhtar Shumar

vo jis ka aks lahu ko jaga diya karta
main khwaab khwaab mein us ko sada diya karta

qareeb aati jo taarikh us ke milne ki
vo apne vaade ki muddat badha diya karta

main zindagi ke safar mein tha mashghala us ka
vo dhundh dhundh ke mujh ko ganwa diya karta

use sametta main jab bhi ek nuqte mein
vo mere dhyaan mein titli uda diya karta

usi ke gaav ki raahon mein baith kar har roz
main dil ka haal hawa ko suna diya karta

mujhe vo aankh mein rakh kar shumaar pichhli shab
ajab khumaar mein palkein gira diya karta

na chhed mujh ko zamaana vo aur tha jis mein
faqeer gaali ke badle dua diya karta

वो जिस का अक्स लहू को जगा दिया करता
मैं ख़्वाब ख़्वाब में उस को सदा दिया करता

क़रीब आती जो तारीख़ उस के मिलने की
वो अपने वादे की मुद्दत बढ़ा दिया करता

मैं ज़िंदगी के सफ़र में था मश्ग़ला उस का
वो ढूँड ढूँड के मुझ को गँवा दिया करता

उसे समेटता मैं जब भी एक नुक़्ते में
वो मेरे ध्यान में तितली उड़ा दिया करता

उसी के गाँव की राहों में बैठ कर हर रोज़
मैं दिल का हाल हवा को सुना दिया करता

मुझे वो आँख में रख कर 'शुमार' पिछली शब
अजब ख़ुमार में पलकें गिरा दिया करता

न छेड़ मुझ को ज़माना वो और था जिस में
फ़क़ीर गाली के बदले दुआ दिया करता

- Akhtar Shumar
0 Likes

Safar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Shumar

As you were reading Shayari by Akhtar Shumar

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Shumar

Similar Moods

As you were reading Safar Shayari Shayari