mausam-e-rang bhi hai fasl-e-khizaan bhi taari | मौसम-ए-रंग भी है फ़स्ल-ए-ख़िज़ाँ भी तारी - Ali Sardar Jafri

mausam-e-rang bhi hai fasl-e-khizaan bhi taari
dekhna khoon ke dhabbe hain ki hai gul-kaari

us se har tarah se tazleel-e-bashar hoti hai
baa'is-e-fakhr nahin muflisi-o-naadaari

inqilaabi ho to hai faqr bhi tauqeer-e-hayaat
warna hai aajizi-o-be-kasi-o-ayyaari

shola-e-gul ki badha deti hai lau-e-baad-e-bahaar
tah-e-shabnam bhi dahak uthati hai ik chingaari

lamha lamha hai ki hai qaafila-e-manzil-e-noor
sarhad-e-shab mein bhi farmaan-e-sehar hai jaari

teg-o-khanjar ko ata karte hain lafzon ki niyaam
zulm ki karte hain jab ahl-e-sitam tayyaari

harf-e-'sardaar mein poshida hain asraar-e-hayaat
sher-e-'sardaar mein hai sarkashi-o-sarshaari

sher-e-'sardaar mein hai shola-e-bebaak ka rang
harf-e-'sardaar mein haq-goi-o-khush-guftaari

मौसम-ए-रंग भी है फ़स्ल-ए-ख़िज़ाँ भी तारी
देखना ख़ून के धब्बे हैं कि है गुल-कारी

उस से हर तरह से तज़लील-ए-बशर होती है
बाइस-ए-फ़ख़्र नहीं मुफ़लिसी-ओ-नादारी

इंक़िलाबी हो तो है फ़क़्र भी तौक़ीर-ए-हयात
वर्ना है आजिज़ी-ओ-बे-कसी-ओ-अय्यारी

शो'ला-ए-गुल की बढ़ा देती है लौ-ए-बाद-ए-बहार
तह-ए-शबनम भी दहक उठती है इक चिंगारी

लम्हा लम्हा है कि है क़ाफ़िला-ए-मंज़िल-ए-नूर
सरहद-ए-शब में भी फ़रमान-ए-सहर है जारी

तेग़-ओ-ख़ंजर को अता करते हैं लफ़्ज़ों की नियाम
ज़ुल्म की करते हैं जब अहल-ए-सितम तय्यारी

हर्फ़-ए-'सरदार' में पोशीदा हैं असरार-ए-हयात
शेर-ए-'सरदार' में है सरकशी-ओ-सरशारी

शेर-ए-'सरदार' में है शो'ला-ए-बेबाक का रंग
हर्फ़-ए-'सरदार' में हक़-गोई-ओ-ख़ुश-गुफ़्तारी

- Ali Sardar Jafri
0 Likes

Deedar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Deedar Shayari Shayari