shaakh-e-gul hai ki ye talwaar khinchi hai yaaro | शाख़-ए-गुल है कि ये तलवार खिंची है यारो - Ali Sardar Jafri

shaakh-e-gul hai ki ye talwaar khinchi hai yaaro
baagh mein kaisi hawa aaj chali hai yaaro

kaun hai khauf-zada jashn-e-sehr se poocho
raat ki nabz to ab chhoot chali hai yaaro

taak ke dil se dil-e-sheesha-o-paimaana tak
ek ik boond mein sau sham'a jali hai yaaro

choom lena lab-e-laaleen ka hai rindon ko rawa
rasm ye baada-e-gul-goon se chali hai yaaro

sirf ik guncha se sharminda hai aalam ki bahaar
dil-e-khoon-gashta ke honton pe hasi hai yaaro

vo jo angoor ke khoshoon mein thi maanind-e-nujoom
dhal ke ab jaam mein khurshid bani hai yaaro

boo-e-khoon aati hai milta hai bahaaron ka suraagh
jaane kis shokh sitamgar ki gali hai yaaro

ye zameen jis se hai ham khaak-nasheenon ka urooj
ye zameen chaand sitaaron mein ghiri hai yaaro

zur'-e-talh bhi hai jaam-gawaara bhi hai
zindagi jashn-gah-e-baada-kashi hai yaaro

शाख़-ए-गुल है कि ये तलवार खिंची है यारो
बाग़ में कैसी हवा आज चली है यारो

कौन है ख़ौफ़-ज़दा जश्न-ए-सहर से पूछो
रात की नब्ज़ तो अब छूट चली है यारो

ताक के दिल से दिल-ए-शीशा-ओ-पैमाना तक
एक इक बूँद में सौ शम्अ जली है यारो

चूम लेना लब-ए-लालीं का है रिंदों को रवा
रस्म ये बादा-ए-गुल-गूँ से चली है यारो

सिर्फ़ इक ग़ुंचा से शर्मिंदा है आलम की बहार
दिल-ए-ख़ूँ-गश्ता के होंटों पे हँसी है यारो

वो जो अंगूर के ख़ोशों में थी मानिंद-ए-नुजूम
ढल के अब जाम में ख़ुर्शीद बनी है यारो

बू-ए-ख़ूँ आती है मिलता है बहारों का सुराग़
जाने किस शोख़ सितमगर की गली है यारो

ये ज़मीं जिस से है हम ख़ाक-नशीनों का उरूज
ये ज़मीं चाँद सितारों में घिरी है यारो

ज़ुरअ-ए-तल्ख़ भी है जाम-गवारा भी है
ज़िंदगी जश्न-गह-ए-बादा-कशी है यारो

- Ali Sardar Jafri
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari