masti-e-rindaana ham sairaabi-e-may-khaana ham | मस्ती-ए-रिंदाना हम सैराबी-ए-मय-ख़ाना हम - Ali Sardar Jafri

masti-e-rindaana ham sairaabi-e-may-khaana ham
gardish-e-taqdeer se hain gardish-e-paimaana ham

khoon-e-dil se chashm-e-tar tak chashm-e-tar se ta-b-khaak
kar gaye aakhir gul-o-gulzaar har veeraana ham

kya bala jabr-e-aseeri hai ki aazaadi mein bhi
dosh par apne liye firte hain zindaan-khaana ham

raah mein faujon ke pahre sar pe talwaaron ki chaanv
aaye hain zindaan mein bhi ba-shaukat-e-shaahana ham

mitte mitte de gaye ham zindagi ko rang-o-noor
rafta rafta ban gaye is ahad ka afsaana ham

ya jaga dete hain zarroon ke dilon mein may-kade
ya bana lete hain mehr-o-maah ko paimaana ham

qaid ho kar aur bhi zindaan mein udta hai khayal
raqs zanjeeron mein bhi karte hain aazaadaana ham

मस्ती-ए-रिंदाना हम सैराबी-ए-मय-ख़ाना हम
गर्दिश-ए-तक़दीर से हैं गर्दिश-ए-पैमाना हम

ख़ून-ए-दिल से चश्म-ए-तर तक चश्म-ए-तर से ता-ब-ख़ाक
कर गए आख़िर गुल-ओ-गुलज़ार हर वीराना हम

क्या बला जब्र-ए-असीरी है कि आज़ादी में भी
दोश पर अपने लिए फिरते हैं ज़िंदाँ-ख़ाना हम

राह में फ़ौजों के पहरे सर पे तलवारों की छाँव
आए हैं ज़िंदाँ में भी बा-शौकत-ए-शाहाना हम

मिटते मिटते दे गए हम ज़िंदगी को रंग-ओ-नूर
रफ़्ता रफ़्ता बन गए इस अहद का अफ़्साना हम

या जगा देते हैं ज़र्रों के दिलों में मय-कदे
या बना लेते हैं मेहर-ओ-माह को पैमाना हम

क़ैद हो कर और भी ज़िंदाँ में उड़ता है ख़याल
रक़्स ज़ंजीरों में भी करते हैं आज़ादाना हम

- Ali Sardar Jafri
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari