wahi husn-e-yaar mein hai wahi laala-zaar mein hai | वही हुस्न-ए-यार में है वही लाला-ज़ार में है - Ali Sardar Jafri

wahi husn-e-yaar mein hai wahi laala-zaar mein hai
vo jo kaifiyat nashe ki may-e-khush-gawaar mein hai

ye chaman ki aarzoo hai koi loot le chaman ko
ye tamaam rang-o-nikhat tire ikhtiyaar mein hai

tire haath ki bulandi mein farogh-e-kahkashaan hai
ye hujoom-e-maah-o-anjum tire intizaar mein hai

bas usi ko todna hai ye junoon-e-naf'aa-khori
yahi ek sard khanjar dil-e-rozgaar mein hai

abhi zindagi haseen hai abhi zikr-e-maut kaisa
abhi phool khil rahe hain abhi to kanaar mein hai

abhi may-kada jawaan hai abhi mauj mein hai saaqi
abhi jaam raqs mein hai abhi may bahaar mein hai

yahi mera sher-o-naghma yahi meri fikr-o-hikmat
jo suroor-o-dard-mandi dil-e-be-qaraar mein hai

वही हुस्न-ए-यार में है वही लाला-ज़ार में है
वो जो कैफ़ियत नशे की मय-ए-ख़ुश-गवार में है

ये चमन की आरज़ू है कोई लूट ले चमन को
ये तमाम रंग-ओ-निकहत तिरे इख़्तियार में है

तिरे हाथ की बुलंदी में फ़रोग़-ए-कहकशाँ है
ये हुजूम-ए-माह-ओ-अंजुम तिरे इंतिज़ार में है

बस उसी को तोड़ना है ये जुनून-ए-नफ़अ'-ख़ोरी
यही एक सर्द ख़ंजर दिल-ए-रोज़गार में है

अभी ज़िंदगी हसीं है अभी ज़िक्र-ए-मौत कैसा
अभी फूल खिल रहे हैं अभी तो कनार में है

अभी मय-कदा जवाँ है अभी मौज में है साक़ी
अभी जाम रक़्स में है अभी मय बहार में है

यही मेरा शेर-ओ-नग़्मा यही मेरी फिक्र-ओ-हिकमत
जो सुरूर-ओ-दर्द-मंदी दिल-ए-बे-क़रार में है

- Ali Sardar Jafri
1 Like

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ali Sardar Jafri

As you were reading Shayari by Ali Sardar Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Ali Sardar Jafri

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari