digar-goon hai jahaan taaron ki gardish tez hai saaqi | दिगर-गूँ है जहाँ तारों की गर्दिश तेज़ है साक़ी - Allama Iqbal

digar-goon hai jahaan taaron ki gardish tez hai saaqi
dil-e-har-zarra mein ghaaga-e-rusta-khez hai saaqi

mata-e-deen-o-daanish loot gai allah-waalon ki
ye kis kaafir-ada ka ghaza-e-khoon-rez hai saaqi

wahi deerina beemaari wahi na-mohkami dil ki
ilaaj is ka wahi aab-e-nashaat-angez hai saaqi

haram ke dil mein soz-e-aarzoo paida nahin hota
ki paidaai tiri ab tak hijaab-aamez hai saaqi

na utha phir koi roomi ajam ke laala-zaaro se
wahi aab-o-gil-e-eran wahi tabrez hai saaqi

nahin hai na-umeed iqbaal apni kisht-e-veeraan se
zara nam ho to ye mitti bahut zarkhez hai saaqi

faqeer-e-raah ko bakshe gaye asraar-e-sultaani
baha meri nava ki daulat-e-parvez hai saaqi

दिगर-गूँ है जहाँ तारों की गर्दिश तेज़ है साक़ी
दिल-ए-हर-ज़र्रा में ग़ोग़ा-ए-रुस्ता-ख़े़ज़ है साक़ी

मता-ए-दीन-ओ-दानिश लुट गई अल्लाह-वालों की
ये किस काफ़िर-अदा का ग़म्ज़ा-ए-ख़ूँ-रेज़ है साक़ी

वही देरीना बीमारी वही ना-मोहकमी दिल की
इलाज इस का वही आब-ए-नशात-अंगेज़ है साक़ी

हरम के दिल में सोज़-ए-आरज़ू पैदा नहीं होता
कि पैदाई तिरी अब तक हिजाब-आमेज़ है साक़ी

न उट्ठा फिर कोई 'रूमी' अजम के लाला-ज़ारों से
वही आब-ओ-गिल-ए-ईराँ वही तबरेज़ है साक़ी

नहीं है ना-उमीद 'इक़बाल' अपनी किश्त-ए-वीराँ से
ज़रा नम हो तो ये मिट्टी बहुत ज़रख़ेज़ है साक़ी

फ़क़ीर-ए-राह को बख़्शे गए असरार-ए-सुल्तानी
बहा मेरी नवा की दौलत-ए-परवेज़ है साक़ी

- Allama Iqbal
3 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari