kushaada dast-e-karam jab vo be-niyaaz kare | कुशादा दस्त-ए-करम जब वो बे-नियाज़ करे - Allama Iqbal

kushaada dast-e-karam jab vo be-niyaaz kare
niyaaz-mand na kyun aajizi pe naaz kare

bitha ke arsh pe rakha hai tu ne ai wa'iz
khuda vo kya hai jo bandon se ehtiraaz kare

meri nigaah mein vo rind hi nahin saaqi
jo hoshiyaari o masti mein imtiyaaz kare

mudaam gosh-b-dil rah ye saaz hai aisa
jo ho shikasta to paida nawa-e-raaz kare

koi ye pooche ki wa'iz ka kya bigadta hai
jo be-amal pe bhi rahmat vo be-niyaaz kare

sukhun mein soz ilaahi kahaan se aata hai
ye cheez vo hai ki patthar ko bhi gudaaz kare

tameez-e-laala-o-gul se hai naala-e-bulbul
jahaan mein vaa na koi chashm-e-imtiyaaz kare

ghuroor-e-zohad ne sikhla diya hai wa'iz ko
ki bandagaan-e-khuda par zabaan daraaz kare

hawa ho aisi ki hindostaan se ai iqbaal
uda ke mujh ko ghubaar-e-rah-e-hijaaz kare

कुशादा दस्त-ए-करम जब वो बे-नियाज़ करे
नियाज़-मंद न क्यूँ आजिज़ी पे नाज़ करे

बिठा के अर्श पे रक्खा है तू ने ऐ वाइ'ज़
ख़ुदा वो क्या है जो बंदों से एहतिराज़ करे

मिरी निगाह में वो रिंद ही नहीं साक़ी
जो होशियारी ओ मस्ती में इम्तियाज़ करे

मुदाम गोश-ब-दिल रह ये साज़ है ऐसा
जो हो शिकस्ता तो पैदा नवा-ए-राज़ करे

कोई ये पूछे कि वाइ'ज़ का क्या बिगड़ता है
जो बे-अमल पे भी रहमत वो बे-नियाज़ करे

सुख़न में सोज़ इलाही कहाँ से आता है
ये चीज़ वो है कि पत्थर को भी गुदाज़ करे

तमीज़-ए-लाला-ओ-गुल से है नाला-ए-बुलबुल
जहाँ में वा न कोई चश्म-ए-इम्तियाज़ करे

ग़ुरूर-ए-ज़ोहद ने सिखला दिया है वाइ'ज़ को
कि बंदगान-ए-ख़ुदा पर ज़बाँ दराज़ करे

हवा हो ऐसी कि हिन्दोस्ताँ से ऐ 'इक़बाल'
उड़ा के मुझ को ग़ुबार-ए-रह-ए-हिजाज़ करे

- Allama Iqbal
0 Likes

Maikada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Maikada Shayari Shayari