ejaz hai kisi ka ya gardish-e-zamaana | एजाज़ है किसी का या गर्दिश-ए-ज़माना - Allama Iqbal

ejaz hai kisi ka ya gardish-e-zamaana
toota hai asia mein sehr-e-firangiyaana

taameer-e-aashiyaa se main ne ye raaz paaya
ahl-e-nava ke haq mein bijli hai aashiyana

ye bandagi khudaai vo bandagi gadaai
ya banda-e-khuda ban ya banda-e-zamaana

ghaafil na ho khudi se kar apni paasbaani
shaayad kisi haram ka tu bhi hai aastaana

ai la ilaah ke waaris baaki nahin hai tujh mein
guftaar-e-dilbaraana kirdaar-e-qaahiraana

teri nigaah se dil seenon mein kaanpate the
khoya gaya hai tera jazb-e-qalandaaraana

raaz-e-haram se shaayad iqbaal ba-khabar hai
hain is ki guftugoo ke andaaz mehraamaana

एजाज़ है किसी का या गर्दिश-ए-ज़माना
टूटा है एशिया में सेहर-ए-फ़िरंगियाना

तामीर-ए-आशियाँ से मैं ने ये राज़ पाया
अह्ल-ए-नवा के हक़ में बिजली है आशियाना

ये बंदगी ख़ुदाई वो बंदगी गदाई
या बंदा-ए-ख़ुदा बन या बंदा-ए-ज़माना

ग़ाफ़िल न हो ख़ुदी से कर अपनी पासबानी
शायद किसी हरम का तू भी है आस्ताना

ऐ ला इलाह के वारिस बाक़ी नहीं है तुझ में
गुफ़्तार-ए-दिलबराना किरदार-ए-क़ाहिराना

तेरी निगाह से दिल सीनों में काँपते थे
खोया गया है तेरा जज़्ब-ए-क़लंदराना

राज़-ए-हरम से शायद 'इक़बाल' बा-ख़बर है
हैं इस की गुफ़्तुगू के अंदाज़ महरमाना

- Allama Iqbal
2 Likes

Wajood Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Wajood Shayari Shayari