khird-mandon se kya poochoon ki meri ibtida kya hai | ख़िर्द-मंदों से क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या है - Allama Iqbal

khird-mandon se kya poochoon ki meri ibtida kya hai
ki main is fikr mein rehta hoon meri intiha kya hai

khudi ko kar buland itna ki har taqdeer se pehle
khuda bande se khud pooche bata teri raza kya hai

maqaam-e-guftugu kya hai agar main keemiya-gar hoon
yahi soz-e-nafs hai aur meri keemiya kya hai

nazar aayein mujhe taqdeer ki gehraaiyaan is mein
na pooch ai hum-nasheen mujh se vo chashm-e-surma-sa kya hai

agar hota vo majzoob-e-farangi is zamaane mein
to iqbaal us ko samjhaata maqaam-e-kibriya kya hai

navaa-e-subh-gaahi ne jigar khun kar diya mera
khudaaya jis khata ki ye saza hai vo khata kya hai

ख़िर्द-मंदों से क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या है
कि मैं इस फ़िक्र में रहता हूँ मेरी इंतिहा क्या है

ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले
ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

मक़ाम-ए-गुफ़्तुगू क्या है अगर मैं कीमिया-गर हूँ
यही सोज़-ए-नफ़स है और मेरी कीमिया क्या है

नज़र आईं मुझे तक़दीर की गहराइयाँ इस में
न पूछ ऐ हम-नशीं मुझ से वो चश्म-ए-सुर्मा-सा क्या है

अगर होता वो 'मजज़ूब'-ए-फ़रंगी इस ज़माने में
तो 'इक़बाल' उस को समझाता मक़ाम-ए-किबरिया क्या है

नवा-ए-सुब्ह-गाही ने जिगर ख़ूँ कर दिया मेरा
ख़ुदाया जिस ख़ता की ये सज़ा है वो ख़ता क्या है

- Allama Iqbal
0 Likes

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading undefined Shayari