hazaar khauf ho lekin zabaan ho dil ki rafeeq | हज़ार ख़ौफ़ हो लेकिन ज़बाँ हो दिल की रफ़ीक़ - Allama Iqbal

hazaar khauf ho lekin zabaan ho dil ki rafeeq
yahi raha hai azal se qalandaron ka tariq

hujoom kyun hai ziyaada sharaab-khaane mein
faqat ye baat ki peer-e-mugaan hai mard-e-khaleeq

ilaaj-e-zof-e-yaqeen in se ho nahin saka
gareeb agarche hain raazi ke nukta-haaye-daqqeeq

mureed-e-saada to ro ro ke ho gaya taib
khuda kare ki mile shaikh ko bhi ye taufeeq

usi tilism-e-kuhan mein aseer hai aadam
baghal mein us ki hain ab tak butaan-e-ahd-e-ateeq

mere liye to hai iqrar-e-bil-lisaan bhi bahut
hazaar shukr ki mulla hain saahib-e-tasdeeq

agar ho ishq to hai kufr bhi musalmaani
na ho to mard-e-muslamaan bhi kaafir o zindeeq

हज़ार ख़ौफ़ हो लेकिन ज़बाँ हो दिल की रफ़ीक़
यही रहा है अज़ल से क़लंदरों का तरीक़

हुजूम क्यूँ है ज़ियादा शराब-ख़ाने में
फ़क़त ये बात कि पीर-ए-मुग़ाँ है मर्द-ए-ख़लीक़

इलाज-ए-ज़ोफ़-ए-यक़ीं इन से हो नहीं सकता
ग़रीब अगरचे हैं 'राज़ी' के नुक्ता-हाए-दक़ीक़

मुरीद-ए-सादा तो रो रो के हो गया ताइब
ख़ुदा करे कि मिले शैख़ को भी ये तौफ़ीक़

उसी तिलिस्म-ए-कुहन में असीर है आदम
बग़ल में उस की हैं अब तक बुतान-ए-अहद-ए-अतीक़

मिरे लिए तो है इक़रार-ए-बिल-लिसाँ भी बहुत
हज़ार शुक्र कि मुल्ला हैं साहिब-ए-तसदीक़

अगर हो इश्क़ तो है कुफ़्र भी मुसलमानी
न हो तो मर्द-ए-मुसलमाँ भी काफ़िर ओ ज़िंदीक़

- Allama Iqbal
2 Likes

Insaan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Insaan Shayari Shayari