mujhe aah-o-fughaan-e-neem-shab ka phir payaam aaya | मुझे आह-ओ-फ़ुग़ान-ए-नीम-शब का फिर पयाम आया - Allama Iqbal

mujhe aah-o-fughaan-e-neem-shab ka phir payaam aaya
tham ai rah-rau ki shaayad phir koi mushkil maqaam aaya

zara taqdeer ki gahraaiyon mein doob ja tu bhi
ki is jangaah se main ban ke teg-e-be-niyaam aaya

ye misra likh diya kis shokh ne mehraab-e-masjid par
ye naadaan gir gaye sajdon mein jab waqt-e-qayaam aaya

chal ai meri ghareebi ka tamasha dekhne waale
vo mehfil uth gai jis dam to mujh tak daur-e-jaam aaya

diya iqbaal ne hindi musalmaano ko soz apna
ye ik mard-e-tan-aasaan tha tan-aasaano ke kaam aaya

usi iqbaal ki main justuju karta raha barson
badi muddat ke ba'ad aakhir vo shaheen zer-e-daam aaya

मुझे आह-ओ-फ़ुग़ान-ए-नीम-शब का फिर पयाम आया
थम ऐ रह-रौ कि शायद फिर कोई मुश्किल मक़ाम आया

ज़रा तक़दीर की गहराइयों में डूब जा तू भी
कि इस जंगाह से मैं बन के तेग़-ए-बे-नियाम आया

ये मिसरा लिख दिया किस शोख़ ने मेहराब-ए-मस्जिद पर
ये नादाँ गिर गए सज्दों में जब वक़्त-ए-क़याम आया

चल ऐ मेरी ग़रीबी का तमाशा देखने वाले
वो महफ़िल उठ गई जिस दम तो मुझ तक दौर-ए-जाम आया

दिया 'इक़बाल' ने हिन्दी मुसलमानों को सोज़ अपना
ये इक मर्द-ए-तन-आसाँ था तन-आसानों के काम आया

उसी 'इक़बाल' की मैं जुस्तुजू करता रहा बरसों
बड़ी मुद्दत के बा'द आख़िर वो शाहीं ज़ेर-ए-दाम आया

- Allama Iqbal
0 Likes

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari