naala hai bulbul-e-shoreeda tira khaam abhi | नाला है बुलबुल-ए-शोरीदा तिरा ख़ाम अभी - Allama Iqbal

naala hai bulbul-e-shoreeda tira khaam abhi
apne seene mein ise aur zara thaam abhi

pukhta hoti hai agar maslahat-andesh ho aql
ishq ho maslahat-andesh to hai khaam abhi

be-khatr kood pada aatish-e-namrood mein ishq
aql hai mahv-e-tamaasha-e-lab-e-baam abhi

ishq farmooda-e-qaasid se subuk-gaam-e-amal
aql samjhi hi nahin m'ani-e-paighaam abhi

shewa-e-ishq hai aazaadi o dahar-aashebi
tu hai zunnaari-e-but-khaana-e-ayyaam abhi

uzr-e-parhez pe kehta hai bigad kar saaqi
hai tire dil mein wahi kaavish-e-anjaam abhi

saii-e-paiham hai tarazoo-kam-o-kaif-e-hayaat
teri mizaan hai shumaar-e-sehr-o-shaam abhi

abr-e-naisaan ye tunuk-bakhshi-e-shabnam kab tak
mere kohsaar ke laale hain tahee-jaam abhi

baada-gardaan-e-ajm vo arabee meri sharaab
mere saaghar se jhijakte hain may-aashaam abhi

khabar iqbaal ki laai hai gulistaan se naseem
nau-giraftaar fadakta hai tah-e-daam abhi

नाला है बुलबुल-ए-शोरीदा तिरा ख़ाम अभी
अपने सीने में इसे और ज़रा थाम अभी

पुख़्ता होती है अगर मस्लहत-अंदेश हो अक़्ल
इश्क़ हो मस्लहत-अंदेश तो है ख़ाम अभी

बे-ख़तर कूद पड़ा आतिश-ए-नमरूद में इश्क़
अक़्ल है महव-ए-तमाशा-ए-लब-ए-बाम अभी

इश्क़ फ़र्मूदा-ए-क़ासिद से सुबुक-गाम-ए-अमल
अक़्ल समझी ही नहीं म'अनी-ए-पैग़ाम अभी

शेवा-ए-इश्क़ है आज़ादी ओ दहर-आशेबी
तू है ज़ुन्नारी-ए-बुत-ख़ाना-ए-अय्याम अभी

उज़्र-ए-परहेज़ पे कहता है बिगड़ कर साक़ी
है तिरे दिल में वही काविश-ए-अंजाम अभी

सई-ए-पैहम है तराज़ू-कम-ओ-कैफ़-ए-हयात
तेरी मीज़ाँ है शुमार-ए-सहर-ओ-शाम अभी

अब्र-ए-नैसाँ ये तुनुक-बख़्शी-ए-शबनम कब तक
मेरे कोहसार के लाले हैं तही-जाम अभी

बादा-गर्दान-ए-अजम वो अरबी मेरी शराब
मिरे साग़र से झिजकते हैं मय-आशाम अभी

ख़बर 'इक़बाल' की लाई है गुलिस्ताँ से नसीम
नौ-गिरफ़्तार फड़कता है तह-ए-दाम अभी

- Allama Iqbal
3 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Allama Iqbal

As you were reading Shayari by Allama Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Allama Iqbal

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari