koi mehram nahin milta jahaan mein | कोई महरम नहीं मिलता जहाँ में - Altaf Hussain Hali

koi mehram nahin milta jahaan mein
mujhe kehna hai kuchh apni zabaan mein

qafas mein jee nahin lagta kisi tarah
laga do aag koi aashiyaan mein

koi din bul-hawas bhi shaad ho len
dhara kya hai ishaaraat-e-nihaan mein

kahi anjaam aa pahuncha wafa ka
ghula jaata hoon ab ke imtihaan mein

naya hai leejie jab naam us ka
bahut wusa'at hai meri dastaan mein

dil-e-pur-dard se kuchh kaam loonga
agar furqat mili mujh ko jahaan mein

bahut jee khush hua haali se mil kar
abhi kuchh log baaki hain jahaan mein

कोई महरम नहीं मिलता जहाँ में
मुझे कहना है कुछ अपनी ज़बाँ में

क़फ़स में जी नहीं लगता किसी तरह
लगा दो आग कोई आशियाँ में

कोई दिन बुल-हवस भी शाद हो लें
धरा क्या है इशारात-ए-निहाँ में

कहीं अंजाम आ पहुँचा वफ़ा का
घुला जाता हूँ अब के इम्तिहाँ में

नया है लीजिए जब नाम उस का
बहुत वुसअ'त है मेरी दास्ताँ में

दिल-ए-पुर-दर्द से कुछ काम लूँगा
अगर फ़ुर्सत मिली मुझ को जहाँ में

बहुत जी ख़ुश हुआ 'हाली' से मिल कर
अभी कुछ लोग बाक़ी हैं जहाँ में

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari