haq wafa ke jo ham jataane lage | हक़ वफ़ा के जो हम जताने लगे - Altaf Hussain Hali

haq wafa ke jo ham jataane lage
aap kuchh kah ke muskuraane lage

tha yahan dil mein taan-e-wasl-e-adu
uzr un ki zabaan pe aane lage

ham ko jeena padega furqat mein
vo agar himmat aazmaane lage

dar hai meri zabaan na khul jaaye
ab vo baatein bahut banaane lage

jaan bachti nazar nahin aati
gair ulfat bahut jataane lage

tum ko karna padega uzr-e-jafa
ham agar dard-e-dil sunaane lage

sakht mushkil hai sheva-e-tasleem
ham bhi aakhir ko jee churaane lage

jee mein hai luun raza-e-peer-e-mughaan
qafile phir haram ko jaane lage

sirr-e-baatin ko faash kar ya rab
ahl-e-zaahir bahut sataane lage

waqt-e-rukhsat tha sakht haali par
ham bhi baithe the jab vo jaane lage

हक़ वफ़ा के जो हम जताने लगे
आप कुछ कह के मुस्कुराने लगे

था यहाँ दिल में तान-ए-वस्ल-ए-अदू
उज़्र उन की ज़बाँ पे आने लगे

हम को जीना पड़ेगा फ़ुर्क़त में
वो अगर हिम्मत आज़माने लगे

डर है मेरी ज़बाँ न खुल जाए
अब वो बातें बहुत बनाने लगे

जान बचती नज़र नहीं आती
ग़ैर उल्फ़त बहुत जताने लगे

तुम को करना पड़ेगा उज़्र-ए-जफ़ा
हम अगर दर्द-ए-दिल सुनाने लगे

सख़्त मुश्किल है शेवा-ए-तस्लीम
हम भी आख़िर को जी चुराने लगे

जी में है लूँ रज़ा-ए-पीर-ए-मुग़ाँ
क़ाफ़िले फिर हरम को जाने लगे

सिर्र-ए-बातिन को फ़ाश कर या रब
अहल-ए-ज़ाहिर बहुत सताने लगे

वक़्त-ए-रुख़्सत था सख़्त 'हाली' पर
हम भी बैठे थे जब वो जाने लगे

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Irada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Irada Shayari Shayari