junoon kaar-farma hua chahta hai | जुनूँ कार-फ़रमा हुआ चाहता है - Altaf Hussain Hali

junoon kaar-farma hua chahta hai
qadam dasht paima hua chahta hai

dam-e-giryaa kis ka tasavvur hai dil mein
ki ashk ashk dariya hua chahta hai

khat aane lage shikwa-aamez un ke
milaap un se goya hua chahta hai

bahut kaam lene the jis dil se ham ko
vo sarf-e-tamanna hua chahta hai

abhi lene paaye nahin dam jahaan mein
ajal ka taqaza hua chahta hai

mujhe kal ke vaade pe karte hain ruksat
koi wa'da poora hua chahta hai

fuzoon tar hai kuchh in dinon zauq-e-isyaa
dar-e-rahmat ab vaa hua chahta hai

qalq gar yahi hai to raaz-e-nihaani
koi din mein rusva hua chahta hai

wafa shart-e-ulfat hai lekin kahaan tak
dil apna bhi tujh sa hua chahta hai

bahut haz uthaata hai dil tujh se mil kar
qalq dekhiye kya hua chahta hai

gham-e-rashk ko talkh samjhe the hamdam
so vo bhi gawara hua chahta hai

bahut chain se din guzarte hain haali
koi fitna barpa hua chahta hai

जुनूँ कार-फ़रमा हुआ चाहता है
क़दम दश्त पैमा हुआ चाहता है

दम-ए-गिर्या किस का तसव्वुर है दिल में
कि अश्क अश्क दरिया हुआ चाहता है

ख़त आने लगे शिकवा-आमेज़ उन के
मिलाप उन से गोया हुआ चाहता है

बहुत काम लेने थे जिस दिल से हम को
वो सर्फ़-ए-तमन्ना हुआ चाहता है

अभी लेने पाए नहीं दम जहाँ में
अजल का तक़ाज़ा हुआ चाहता है

मुझे कल के वादे पे करते हैं रुख़्सत
कोई वा'दा पूरा हुआ चाहता है

फ़ुज़ूँ तर है कुछ इन दिनों ज़ौक़-ए-इस्याँ
दर-ए-रहमत अब वा हुआ चाहता है

क़लक़ गर यही है तो राज़-ए-निहानी
कोई दिन में रुस्वा हुआ चाहता है

वफ़ा शर्त-ए-उल्फ़त है लेकिन कहाँ तक
दिल अपना भी तुझ सा हुआ चाहता है

बहुत हज़ उठाता है दिल तुझ से मिल कर
क़लक़ देखिए क्या हुआ चाहता है

ग़म-ए-रश्क को तल्ख़ समझे थे हमदम
सो वो भी गवारा हुआ चाहता है

बहुत चैन से दिन गुज़रते हैं 'हाली'
कोई फ़ित्ना बरपा हुआ चाहता है

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari