ghar hai wahshat-khez aur basti ujaad | घर है वहशत-ख़ेज़ और बस्ती उजाड़ - Altaf Hussain Hali

ghar hai wahshat-khez aur basti ujaad
ho gai ek ik ghadi tujh bin pahaad

aaj tak qasr-e-amal hai na-tamaam
bandh chuki hai baar-ha khul khul ke paar

hai pahunchana apna choti tak muhaal
ai talab nikla bahut ooncha pahaad

khelna aata hai ham ko bhi shikaar
par nahin zaahid koi tatti ki aad

dil nahin raushan to hain kis kaam ke
sau shabistaan mein agar raushan hain jhaad

eed aur nauroz hai sab dil ke saath
dil nahin haazir to duniya hai ujaad

khet raaste par hai aur rah-rau sawaar
kisht hai sarsabz aur neechi hai baar

baat wa'iz ki koi pakadi gai
in dinon kam-tar hai kuchh ham par lataad

tum ne haali khol kar naahak zabaan
kar liya saari khudaai se bigaad

घर है वहशत-ख़ेज़ और बस्ती उजाड़
हो गई एक इक घड़ी तुझ बिन पहाड़

आज तक क़स्र-ए-अमल है ना-तमाम
बंध चुकी है बार-हा खुल खुल के पाड़

है पहुँचना अपना चोटी तक मुहाल
ऐ तलब निकला बहुत ऊँचा पहाड़

खेलना आता है हम को भी शिकार
पर नहीं ज़ाहिद कोई टट्टी की आड़

दिल नहीं रौशन तो हैं किस काम के
सौ शबिस्ताँ में अगर रौशन हैं झाड़

ईद और नौरोज़ है सब दिल के साथ
दिल नहीं हाज़िर तो दुनिया है उजाड़

खेत रस्ते पर है और रह-रौ सवार
किश्त है सरसब्ज़ और नीची है बाड़

बात वाइ'ज़ की कोई पकड़ी गई
इन दिनों कम-तर है कुछ हम पर लताड़

तुम ने 'हाली' खोल कर नाहक़ ज़बाँ
कर लिया सारी ख़ुदाई से बिगाड़

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari