ishq ko tark-e-junoon se kya garz | इश्क़ को तर्क-ए-जुनूँ से क्या ग़रज़ - Altaf Hussain Hali

ishq ko tark-e-junoon se kya garz
charkh-e-gardaan ko sukoon se kya garz

dil mein hai ai khizr gar sidq-e-talab
raah-rau ko rahnumon se kya garz

haajiyo hai ham ko ghar waale se kaam
ghar ke mehraab o sutoon se kya garz

gunguna kar aap ro padte hain jo
un ko chang o arghanoo se kya garz

nek kehna nek jis ko dekhna
ham ko taftish-e-daroon se kya garz

dost hain jab zakhm-e-dil se be-khabar
un ko apne ashk-e-khoon se kya garz

ishq se hai mujtanib zaahid abas
sher ko said-e-zaboon se kya garz

kar chuka jab shaikh taskheer-e-quloob
ab use duniya-e-doo se kya garz

aaye ho haali pai-tasleem yaa
aap ko choon-o-chagoon se kya garz

इश्क़ को तर्क-ए-जुनूँ से क्या ग़रज़
चर्ख़-ए-गर्दां को सुकूँ से क्या ग़रज़

दिल में है ऐ ख़िज़्र गर सिदक़-ए-तलब
राह-रौ को रहनुमों से क्या ग़रज़

हाजियो है हम को घर वाले से काम
घर के मेहराब ओ सुतूँ से क्या ग़रज़

गुनगुना कर आप रो पड़ते हैं जो
उन को चंग ओ अरग़नूँ से क्या ग़रज़

नेक कहना नेक जिस को देखना
हम को तफ़्तीश-ए-दरूँ से क्या ग़रज़

दोस्त हैं जब ज़ख़्म-ए-दिल से बे-ख़बर
उन को अपने अश्क-ए-ख़ूँ से क्या ग़रज़

इश्क़ से है मुजतनिब ज़ाहिद अबस
शेर को सैद-ए-ज़बूँ से क्या ग़रज़

कर चुका जब शैख़ तस्ख़ीर-ए-क़ुलूब
अब उसे दुनिया-ए-दूँ से क्या ग़रज़

आए हो 'हाली' पए-तस्लीम याँ
आप को चून-ओ-चगूँ से क्या ग़रज़

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari