khoobiyaan apne mein go be-intihaa paate hain ham | ख़ूबियाँ अपने में गो बे-इंतिहा पाते हैं हम - Altaf Hussain Hali

khoobiyaan apne mein go be-intihaa paate hain ham
par har ik khoobi mein daagh ik aib ka paate hain ham

khauf ka koi nishaan zaahir nahin af'aal mein
go ki dil mein muttasil khauf-e-khuda paate hain ham

karte hain taa'at to kuchh khwaahan numaish ke nahin
par gunah chhup chhup ke karne mein maza paate hain ham

deeda o dil ko khayaanat se nahin rakh sakte baaz
garche dast-o-pa ko akshar be-khata paate hain ham

dil mein dard-e-ishq ne muddat se kar rakha hai ghar
par use aalooda-e-hirs-o-hawa paate hain ham

ho ke naadim jurm se phir jurm karte hain wahi
jurm se go aap ko naadim sada paate hain ham

hain fida un doston par jin mein ho sidq o safa
par bahut kam aap mein sidq o safa paate hain ham

go kisi ko aap se hone nahin dete khafa
ik jahaan se aap ko lekin khafa paate hain ham

jaante apne siva sab ko hain be-mehr o wafa
apne mein gar shamma-e-mehr-o-wafa paate hain ham

bukhl se mansoob karte hain zamaane ko sada
gar kabhi taufeeq-e-eisaar o ata paate hain ham

ho agar maqsad mein naakaami to kar sakte hain sabr
dard-e-khud-kaami ko lekin be-dava paate hain ham

theharte jaate hain jitne chashm-e-aalam mein bhale
haal nafs-e-doon ka utna hi bura paate hain ham

jis qadar jhuk jhuk ke milte hain buzurg o khurd se
kibr o naaz utna hi apne mein siva paate hain ham

go bhalaai karke hum-jinso se khush hota hai jee
tah-nasheen us mein magar dard-e-riya paate hain ham

hai rida-e-nek-naami dosh par apne magar
daagh ruswaai ke kuchh zer-e-rida paate hain ham

raah ke taalib hain par be-raah padte hain qadam
dekhiye kya dhundhte hain aur kya paate hain ham

noor ke ham ne gale dekhe hain ai haali magar
rang kuchh teri alaapon mein naya paate hain ham

ख़ूबियाँ अपने में गो बे-इंतिहा पाते हैं हम
पर हर इक ख़ूबी में दाग़ इक ऐब का पाते हैं हम

ख़ौफ़ का कोई निशाँ ज़ाहिर नहीं अफ़आ'ल में
गो कि दिल में मुत्तसिल ख़ौफ़-ए-ख़ुदा पाते हैं हम

करते हैं ताअ'त तो कुछ ख़्वाहाँ नुमाइश के नहीं
पर गुनह छुप छुप के करने में मज़ा पाते हैं हम

दीदा ओ दिल को ख़यानत से नहीं रख सकते बाज़
गरचे दस्त-ओ-पा को अक्सर बे-ख़ता पाते हैं हम

दिल में दर्द-ए-इश्क़ ने मुद्दत से कर रक्खा है घर
पर उसे आलूदा-ए-हिर्स-ओ-हवा पाते हैं हम

हो के नादिम जुर्म से फिर जुर्म करते हैं वही
जुर्म से गो आप को नादिम सदा पाते हैं हम

हैं फ़िदा उन दोस्तों पर जिन में हो सिद्क़ ओ सफ़ा
पर बहुत कम आप में सिद्क़ ओ सफ़ा पाते हैं हम

गो किसी को आप से होने नहीं देते ख़फ़ा
इक जहाँ से आप को लेकिन ख़फ़ा पाते हैं हम

जानते अपने सिवा सब को हैं बे-मेहर ओ वफ़ा
अपने में गर शम्मा-ए-मेहर-ओ-वफ़ा पाते हैं हम

बुख़्ल से मंसूब करते हैं ज़माने को सदा
गर कभी तौफ़ीक़-ए-ईसार ओ अता पाते हैं हम

हो अगर मक़्सद में नाकामी तो कर सकते हैं सब्र
दर्द-ए-ख़ुद-कामी को लेकिन बे-दवा पाते हैं हम

ठहरते जाते हैं जितने चश्म-ए-आलम में भले
हाल नफ़्स-ए-दूँ का उतना ही बुरा पाते हैं हम

जिस क़दर झुक झुक के मिलते हैं बुज़ुर्ग ओ ख़ुर्द से
किब्र ओ नाज़ उतना ही अपने में सिवा पाते हैं हम

गो भलाई करके हम-जिंसों से ख़ुश होता है जी
तह-नशीं उस में मगर दुर्द-ए-रिया पाते हैं हम

है रिदा-ए-नेक-नामी दोश पर अपने मगर
दाग़ रुस्वाई के कुछ ज़ेर-ए-रिदा पाते हैं हम

राह के तालिब हैं पर बे-राह पड़ते हैं क़दम
देखिए क्या ढूँढते हैं और क्या पाते हैं हम

नूर के हम ने गले देखे हैं ऐ 'हाली' मगर
रंग कुछ तेरी अलापों में नया पाते हैं हम

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Rang Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Rang Shayari Shayari