jeete jee maut ke tum munh mein na jaana hargiz | जीते जी मौत के तुम मुँह में न जाना हरगिज़ - Altaf Hussain Hali

jeete jee maut ke tum munh mein na jaana hargiz
dosto dil na lagana na lagana hargiz

ishq bhi taak mein baitha hai nazr-baazon ki
dekhna sher se aankhen na ladna hargiz

haath malne na hon peeri mein agar hasrat se
to jawaani mein na ye rog basaana hargiz

jitne raaste the tire ho gaye veeraan ai ishq
aa ke veeraanon mein ab ghar na basaana hargiz

kooch sab kar gaye dilli se tire qadr-shanaas
qadr yaa rah ke ab apni na ganwaana hargiz

tazkira dehli-e-marhoom ka ai dost na chhed
na suna jaayega ham se ye fasana hargiz

dhundhta hai dil-e-shoreeda bahaane mutarib
dard-angez ghazal koi na gaana hargiz

sohbaten agli musavvir hamein yaad aayengi
koi dilchasp murqqa na dikhaana hargiz

le ke daagh aayega seene pe bahut ai sayyaah
dekh is shehar ke khandaron mein na jaana hargiz

chappe chappe pe hain yaa gauhar-e-yakta tah-e-khaak
dafn hoga kahi itna na khazana hargiz

mit gaye tere mitaane ke nishaan bhi ab to
ai falak is se ziyaada na mitaana hargiz

vo to bhule the hamein ham bhi unhen bhool gaye
aisa badla hai na badlega zamaana hargiz

ham ko gar tu ne rulaaya to rulaaya ai charkh
ham pe ghairoon ko to zalim na hansaana hargiz

aakhiri daur mein bhi tujh ko qasam hai saaqi
bhar ke ik jaam na pyaason ko pilaana hargiz

bakht soye hain bahut jaag ke ai daur-e-zamaan
na abhi neend ke maaton ko jagaana hargiz

kabhi ai ilm o hunar ghar tha tumhaara dilli
ham ko bhule ho to ghar bhool na jaana hargiz

shaayri mar chuki ab zinda na hogi yaaro
yaad kar kar ke use jee na kudhaana hargiz

ghalib o shefta o nayyar o aazurda o zauq
ab dikhaayega ye shaklein na zamaana hargiz

mumin o alvee o sahabaai o mamnu' ke baad
sher ka naam na lega koi daana hargiz

kar diya mar ke yagaano'n ne yagaana ham ko
warna yaa koi na tha ham mein yagaana hargiz

daagh o majrooh ko sun lo ki phir is gulshan mein
na sunega koi bulbul ka taraana hargiz

raat aakhir hui aur bazm hui zer-o-zabar
ab na dekhoge kabhi lutf-e-shabaana hargiz

bazm-e-maatam to nahin bazm-e-sukhan hai haali
yaa munaasib nahin ro ro ke rulaana hargiz

जीते जी मौत के तुम मुँह में न जाना हरगिज़
दोस्तो दिल न लगाना न लगाना हरगिज़

इश्क़ भी ताक में बैठा है नज़र-बाज़ों की
देखना शेर से आँखें न लड़ाना हरगिज़

हाथ मलने न हों पीरी में अगर हसरत से
तो जवानी में न ये रोग बसाना हरगिज़

जितने रस्ते थे तिरे हो गए वीराँ ऐ इश्क़
आ के वीरानों में अब घर न बसाना हरगिज़

कूच सब कर गए दिल्ली से तिरे क़द्र-शनास
क़द्र याँ रह के अब अपनी न गँवाना हरगिज़

तज़्किरा देहली-ए-मरहूम का ऐ दोस्त न छेड़
न सुना जाएगा हम से ये फ़साना हरगिज़

ढूँडता है दिल-ए-शोरीदा बहाने मुतरिब
दर्द-अंगेज़ ग़ज़ल कोई न गाना हरगिज़

सोहबतें अगली मुसव्विर हमें याद आएँगी
कोई दिलचस्प मुरक़्क़ा न दिखाना हरगिज़

ले के दाग़ आएगा सीने पे बहुत ऐ सय्याह
देख इस शहर के खंडरों में न जाना हरगिज़

चप्पे चप्पे पे हैं याँ गौहर-ए-यकता तह-ए-ख़ाक
दफ़्न होगा कहीं इतना न ख़ज़ाना हरगिज़

मिट गए तेरे मिटाने के निशाँ भी अब तो
ऐ फ़लक इस से ज़ियादा न मिटाना हरगिज़

वो तो भूले थे हमें हम भी उन्हें भूल गए
ऐसा बदला है न बदलेगा ज़माना हरगिज़

हम को गर तू ने रुलाया तो रुलाया ऐ चर्ख़
हम पे ग़ैरों को तो ज़ालिम न हँसाना हरगिज़

आख़िरी दौर में भी तुझ को क़सम है साक़ी
भर के इक जाम न प्यासों को पिलाना हरगिज़

बख़्त सोए हैं बहुत जाग के ऐ दौर-ए-ज़माँ
न अभी नींद के मातों को जगाना हरगिज़

कभी ऐ इल्म ओ हुनर घर था तुम्हारा दिल्ली
हम को भूले हो तो घर भूल न जाना हरगिज़

शाइरी मर चुकी अब ज़िंदा न होगी यारो
याद कर कर के उसे जी न कुढ़ाना हरगिज़

'ग़ालिब' ओ 'शेफ़्ता' ओ 'नय्यर' ओ 'आज़ुर्दा' ओ 'ज़ौक़'
अब दिखाएगा ये शक्लें न ज़माना हरगिज़

'मोमिन' ओ 'अल्वी' ओ 'सहबाई' ओ 'ममनूँ' के बाद
शेर का नाम न लेगा कोई दाना हरगिज़

कर दिया मर के यगानों ने यगाना हम को
वर्ना याँ कोई न था हम में यगाना हरगिज़

'दाग़' ओ 'मजरूह' को सुन लो कि फिर इस गुलशन में
न सुनेगा कोई बुलबुल का तराना हरगिज़

रात आख़िर हुई और बज़्म हुई ज़ेर-ओ-ज़बर
अब न देखोगे कभी लुत्फ़-ए-शबाना हरगिज़

बज़्म-ए-मातम तो नहीं बज़्म-ए-सुख़न है 'हाली'
याँ मुनासिब नहीं रो रो के रुलाना हरगिज़

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Dost Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Dost Shayari Shayari