gham-e-furqat hi mein marna ho to dushwaar nahin | ग़म-ए-फ़ुर्क़त ही में मरना हो तो दुश्वार नहीं - Altaf Hussain Hali

gham-e-furqat hi mein marna ho to dushwaar nahin
shaadi-e-wasl bhi aashiq ko saza-waar nahin

khoob-rooi ke liye zishti-e-khoo bhi hai zaroor
sach to ye hai ki koi tujh sa tarh-daar nahin

qaul dene mein taammul na qasam se inkaar
ham ko saccha nazar aata koi iqaar nahin

kal kharaabaat mein ik goshe se aati thi sada
dil mein sab kuchh hai magar rukhsat-e-guftaar nahin

haq hua kis se ada us ki wafadari ka
jis ke nazdeek jafaa bais-e-aazaar nahin

dekhte hain ki pahunchti hai wahan kaun si raah
kaaba o dair se kuchh ham ko sarokaar nahin

honge qaail vo abhi matlaa-e-saani sun kar
jo tajalli mein ye kahte hain ki takraar nahin

ग़म-ए-फ़ुर्क़त ही में मरना हो तो दुश्वार नहीं
शादी-ए-वस्ल भी आशिक़ को सज़ा-वार नहीं

ख़ूब-रूई के लिए ज़िश्ती-ए-ख़ू भी है ज़रूर
सच तो ये है कि कोई तुझ सा तरह-दार नहीं

क़ौल देने में तअम्मुल न क़सम से इंकार
हम को सच्चा नज़र आता कोई इक़रार नहीं

कल ख़राबात में इक गोशे से आती थी सदा
दिल में सब कुछ है मगर रुख़्सत-ए-गुफ़्तार नहीं

हक़ हुआ किस से अदा उस की वफ़ादारी का
जिस के नज़दीक जफ़ा बाइस-ए-आज़ार नहीं

देखते हैं कि पहुँचती है वहाँ कौन सी राह
काबा ओ दैर से कुछ हम को सरोकार नहीं

होंगे क़ाइल वो अभी मतला-ए-सानी सुन कर
जो तजल्ली में ये कहते हैं कि तकरार नहीं

- Altaf Hussain Hali
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Altaf Hussain Hali

As you were reading Shayari by Altaf Hussain Hali

Similar Writers

our suggestion based on Altaf Hussain Hali

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari