main ne socha hai raat-bhar tum ko | मैं ने सोचा है रात-भर तुम को - Ambreen Haseeb Ambar

main ne socha hai raat-bhar tum ko
kaash ho jaaye ye khabar tum ko

zindagi mein kabhi kisi ko bhi
main ne chaaha nahin magar tum ko

jaanti hoon ki tum nahin maujood
dhoondhti hai magar nazar tum ko

tum bhi afsos raah-rau nikle
main to samjhi thi hum-safar tum ko

mujh mein ab main nahin rahi baaki
main ne chaaha hai is qadar tum ko

मैं ने सोचा है रात-भर तुम को
काश हो जाए ये ख़बर तुम को

ज़िंदगी में कभी किसी को भी
मैं ने चाहा नहीं मगर तुम को

जानती हूँ कि तुम नहीं मौजूद
ढूँढती है मगर नज़र तुम को

तुम भी अफ़्सोस राह-रौ निकले
मैं तो समझी थी हम-सफ़र तुम को

मुझ में अब मैं नहीं रही बाक़ी
मैं ने चाहा है इस क़दर तुम को

- Ambreen Haseeb Ambar
0 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ambreen Haseeb Ambar

As you were reading Shayari by Ambreen Haseeb Ambar

Similar Writers

our suggestion based on Ambreen Haseeb Ambar

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari