akshar raat gaye tak main chaukhat par baitha rehta hoon | अक्सर रात गए तक मैं चौखट पर बैठा रहता हूँ - Ameeq Hanafi

akshar raat gaye tak main chaukhat par baitha rehta hoon
cigarette peeta chaand ko takta man mein bikta rehta hoon

raik pe rakh kar bhool gaya tha us ke chehre aisi kitaab
haath mein jab aa jaati hai to paharon padhta rehta hoon

marmar ka patthar ban jaati hai jab poore chaand ki raat
apni nazaron ki cheeni se mooraten ghadta rehta hoon

aakhiri sho se lautne waale bhi ghaaeb ho jaate hain
main jaane kin tasveeron mein kab tak khoya rehta hoon

अक्सर रात गए तक मैं चौखट पर बैठा रहता हूँ
सिगरेट पीता चाँद को तकता मन में बिकता रहता हूँ

रैक पे रख कर भूल गया था उस के चेहरे ऐसी किताब
हाथ में जब आ जाती है तो पहरों पढ़ता रहता हूँ

मरमर का पत्थर बन जाती है जब पूरे चाँद की रात
अपनी नज़रों की छीनी से मूरतें घड़ता रहता हूँ

आख़िरी शो से लौटने वाले भी ग़ाएब हो जाते हैं
मैं जाने किन तस्वीरों में कब तक खोया रहता हूँ

- Ameeq Hanafi
0 Likes

Kitaaben Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameeq Hanafi

As you were reading Shayari by Ameeq Hanafi

Similar Writers

our suggestion based on Ameeq Hanafi

Similar Moods

As you were reading Kitaaben Shayari Shayari