phool khile hain likha hua hai todo mat | फूल खिले हैं लिखा हुआ है तोड़ो मत - Ameeq Hanafi

phool khile hain likha hua hai todo mat
aur machal kar jee kehta hai chhodo mat

rut matwaali chaand nasheela raat jawaan
ghar ka aamad-kharch yahan to jodo mat

abr jhuka hai chaand ke gore mukhde par
chhodo laaj lago dil se munh modo mat

dil ko patthar kar dene waali yaado
ab apna sar us patthar se phodo mat

mat ameek ki aankhon se dil mein jhaanko
is gehre saagar se naata jodo mat

फूल खिले हैं लिखा हुआ है तोड़ो मत
और मचल कर जी कहता है छोड़ो मत

रुत मतवाली चाँद नशीला रात जवान
घर का आमद-ख़र्च यहाँ तो जोड़ो मत

अब्र झुका है चाँद के गोरे मुखड़े पर
छोड़ो लाज लगो दिल से मुँह मोड़ो मत

दिल को पत्थर कर देने वाली यादो
अब अपना सर उस पत्थर से फोड़ो मत

मत 'अमीक़' की आँखों से दिल में झाँको
इस गहरे सागर से नाता जोड़ो मत

- Ameeq Hanafi
0 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameeq Hanafi

As you were reading Shayari by Ameeq Hanafi

Similar Writers

our suggestion based on Ameeq Hanafi

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari