aag ke saath main bahta hua paani sunna | आग के साथ मैं बहता हुआ पानी सुनना - Ameer Imam

aag ke saath main bahta hua paani sunna
raat-bhar apne anaasir ki sunaani sunna

dekhna roz andheron mein shua'on ki numoo
pattharon mein kisi dariya ki rawaani sunna

vo sunaayengi kabhi meri kahaani tum ko
tum hawaon se kabhi meri kahaani sunna

meri khaamoshi meri maskh hai is maskh mein tum
maar kar teer meri tishna-dahaani sunna

umr na-kaafi hai is hijrat-e-awwal ke liye
phir janam luun to meri hijrat-e-saani sunna

kam-sini par hai ajab haal tumhaara yaaro
sun lo aasaan nahin us ki jawaani sunna

geet mere jo pasand aate hain itne tum ko
inheen geeton ki kabhi marsiya-khwani sunna

kya naya tum ko sunaau ki naya kuchh bhi nahin
naye lafzon mein wahi baat puraani sunna

आग के साथ मैं बहता हुआ पानी सुनना
रात-भर अपने अनासिर की सुनानी सुनना

देखना रोज़ अँधेरों में शुआ'ओं की नुमू
पत्थरों में किसी दरिया की रवानी सुनना

वो सुनाएँगी कभी मेरी कहानी तुम को
तुम हवाओं से कभी मेरी कहानी सुनना

मेरी ख़ामोशी मिरी मश्क़ है इस मश्क़ में तुम
मार कर तीर मिरी तिश्ना-दहानी सुनना

उम्र ना-काफ़ी है इस हिज्रत-ए-अव्वल के लिए
फिर जनम लूँ तो मिरी हिजरत-ए-सानी सुनना

कम-सिनी पर है अजब हाल तुम्हारा यारो
सुन लो आसान नहीं उस की जवानी सुनना

गीत मेरे जो पसंद आते हैं इतने तुम को
इन्हीं गीतों की कभी मर्सिया-ख़्वानी सुनना

क्या नया तुम को सुनाऊँ कि नया कुछ भी नहीं
नए लफ़्ज़ों में वही बात पुरानी सुनना

- Ameer Imam
1 Like

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari