mere ashaar sunaana na sunaane dena | मेरे अशआर सुनाना न सुनाने देना - Ameer Imam

mere ashaar sunaana na sunaane dena
jab main duniya se chala jaaun to jaane dena

saath inke hai bahut khaak udaai maine
in hawaon ko meri khaak udaane dena

mat bataana ki bikhar jaayen to kya hota hai
nayi naslon ko naye khwaab sajaane dena

waqt duniya ko sunaayega kahaani meri
kahe deta hoon mera naam na aane dena

rahoon khaamosh to khaamosh hi rakhna mujh ko
aur agar shor machaaoon to machaane dena

ab to baarish mein bhi school khula karte hain
wahan mat bhejna bacchon ko nahaane dena

jaan lena ki naya haath bulaata hai tumhein
gar koi haath chhudaaye to chhudaane dena

haan wahi baat jo maaloom hai tum logon ko
main wahi baat chhupaoonga chhupaane dena

mere jeene pe hanse log koi baat nahin
haan meri maut ka maatam na manaane dena

मेरे अशआर सुनाना न सुनाने देना
जब मैं दुनिया से चला जाऊँ तो जाने देना

साथ इनके है बहुत ख़ाक उड़ाई मैंने
इन हवाओं को मेरी ख़ाक उड़ाने देना

मत बताना कि बिखर जाएँ तो क्या होता है
नयी नस्लों को नये ख़्वाब सजाने देना

वक़्त दुनिया को सुनाएगा कहानी मेरी
कहे देता हूँ मिरा नाम न आने देना

रहूँ ख़ामोश तो ख़ामोश ही रखना मुझ को
और अगर शोर मचाऊँ तो मचाने देना

अब तो बारिश में भी स्कूल खुला करते हैं
वहाँ मत भेजना बच्चों को नहाने देना

जान लेना कि नया हाथ बुलाता है तुम्हें
गर कोई हाथ छुड़ाए तो छुड़ाने देना

हाँ वही बात जो मालूम है तुम लोगों को
मैं वही बात छुपाऊँगा छुपाने देना

मेरे जीने पे हँसे लोग कोई बात नहीं
हाँ मिरी मौत का मातम न मनाने देना

- Ameer Imam
13 Likes

Aahat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading Aahat Shayari Shayari