saaf kahte ho magar kuchh nahin khulta kehna | साफ़ कहते हो मगर कुछ नहीं खुलता कहना - Ameer Minai

saaf kahte ho magar kuchh nahin khulta kehna
baat kehna bhi tumhaara hai muamma kehna

ro ke us shokh se qaasid mera rona kehna
hans pade us pe to phir harf-e-tamanna kehna

masl-e-maktoob na kehne mein hai kya kya kehna
na meri tarz-e-khamoshi na kisi ka kehna

aur thodi si shab-e-wasl badha de ya-rab
subh nazdeek hamein un se hai kya kya kehna

faad khaata hai jo ghairoon ko jhapat kar sag-e-yaar
main ye kehta hoon mere sher tira kya kehna

har bun-e-moo-e-miza mein hain yahan sau toofaan
ain ghaflat hai mari aankh ko dariya kehna

wasf-e-rukh mein jo sune sher vo hans kar bole
sher hain noor ke hai noor ka tera kehna

la sakoge na zara jalwa-e-deedaar ki taab
arini munh se na ai hazrat-e-moosa kehna

kar liya ahad kabhi kuchh na kaheinge munh se
ab agar sach bhi kahein tum hamein jhoota kehna

khaak mein zid se milaao na mere aansu ko
sacche moti ko munaasib nahin jhoota kehna

kaise naadaan hain jo achhon ko bura kahte hain
ho bura bhi to use chahiye achha kehna

dam-e-aakhir tu buto yaad khuda karne do
zindagi bhar to kiya main ne tumhaara kehna

padhte hain dekh ke us but ko farishte bhi darood
marhaba salle-ala salle-ala kya kehna

ai buto tum jo ada aa ke karo masjid mein
lab-e-mehraab kahe naam-e-khuda kya kehna

in haseenon ki jo taarif karo chidhte hain
sach to ye hai ki bura hai unhen achha kehna

shauq kaabe liye jaata hai havas jaanib-e-dair
mere allah baja laaun mein kis ka kehna

saari mehfil ko ishaaron mein luta do ai jaan
seekh lo chashm-e-sukhan-go se lateefa kehna

ghatte ghatte mein raha ishq-e-kamar mein aadha
jaama-e-tan ko mere chahiye neema kehna

mein to aankhon se baja laata hoon irshaad-e-huzoor
aap sunte nahin kaanon se bhi mera kehna

chusti-e-tab' se ustaad ka hai qaul ameer
ho zameen sust magar chahiye achha kehna

साफ़ कहते हो मगर कुछ नहीं खुलता कहना
बात कहना भी तुम्हारा है मुअम्मा कहना

रो के उस शोख़ से क़ासिद मिरा रोना कहना
हँस पड़े उस पे तो फिर हर्फ़-ए-तमन्ना कहना

मसल-ए-मक्तूब न कहने में है क्या क्या कहना
न मिरी तर्ज़-ए-ख़मोशी न किसी का कहना

और थोड़ी सी शब-ए-वस्ल बढ़ा दे या-रब
सुब्ह नज़दीक हमें उन से है क्या क्या कहना

फाड़ खाता है जो ग़ैरों को झपट कर सग-ए-यार
मैं ये कहता हूँ मिरे शेर तिरा क्या कहना

हर बुन-ए-मू-ए-मिज़ा में हैं यहाँ सौ तूफ़ाँ
ऐन ग़फ़लत है मरी आँख को दरिया कहना

वस्फ़-ए-रुख़ में जो सुने शेर वो हँस कर बोले
शेर हैं नूर के है नूर का तेरा कहना

ला सकोगे न ज़रा जल्वा-ए-दीदार की ताब
अरिनी मुँह से न ऐ हज़रत-ए-मूसा कहना

कर लिया अहद कभी कुछ न कहेंगे मुँह से
अब अगर सच भी कहें तुम हमें झूटा कहना

ख़ाक में ज़िद से मिलाओ न मिरे आँसू को
सच्चे मोती को मुनासिब नहीं झूटा कहना

कैसे नादाँ हैं जो अच्छों को बुरा कहते हैं
हो बुरा भी तो उसे चाहिए अच्छा कहना

दम-ए-आख़िर तू बुतो याद ख़ुदा करने दो
ज़िंदगी भर तो किया मैं ने तुम्हारा कहना

पढ़ते हैं देख के उस बुत को फ़रिश्ते भी दरूद
मर्हबा सल्ले-अला सल्ले-अला क्या कहना

ऐ बुतो तुम जो अदा आ के करो मस्जिद में
लब-ए-मेहराब कहे नाम-ए-ख़ुदा क्या कहना

इन हसीनों की जो तारीफ़ करो चिढ़ते हैं
सच तो ये है कि बुरा है उन्हें अच्छा कहना

शौक़ काबे लिए जाता है हवस जानिब-ए-दैर
मेरे अल्लाह बजा लाऊँ में किस का कहना

सारी महफ़िल को इशारों में लुटा दो ऐ जान
सीख लो चश्म-ए-सुख़न-गो से लतीफ़ा कहना

घटते घटते में रहा इश्क़-ए-कमर में आधा
जामा-ए-तन को मिरे चाहिए नीमा कहना

में तो आँखों से बजा लाता हूँ इरशाद-ए-हुज़ूर
आप सुनते नहीं कानों से भी मेरा कहना

चुस्ती-ए-तब्अ से उस्ताद का है क़ौल 'अमीर'
हो ज़मीं सुस्त मगर चाहिए अच्छा कहना

- Ameer Minai
0 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Minai

As you were reading Shayari by Ameer Minai

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Minai

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari