khwaab tumhaare aate hain itraate hain | ख्वाब तुम्हारे आते हैं इतराते हैं - Anand Raj Singh

khwaab tumhaare aate hain itraate hain
hum jab jab so jaate hain itraate hain

us par marne waale jitne ladke hain
mujhse milne aate hain itraate hain

sarkaari daftar mein beta naukar hai
paapa milkar aate hain itraate hain

hum to khaamoshi mein doobe hain lekin
zakhm hamaare gaate hain itraate hain

main aisa gumnaam hua hoon log mujhe
mera sher sunaate hain itraate hain

ख्वाब तुम्हारे आते हैं इतराते हैं
हम जब जब सो जाते हैं इतराते हैं

उस पर मरने वाले जितने लड़के हैं
मुझसे मिलने आते हैं इतराते हैं

सरकारी दफ्तर में बेटा नौकर है
पापा मिलकर आते हैं इतराते हैं

हम तो खामोशी में डूबे हैं लेकिन
ज़ख़्म हमारे गाते हैं इतराते हैं

मैं ऐसा ग़ुमनाम हुआ हूँ लोग मुझे
मेरा शेर सुनाते हैं इतराते हैं

- Anand Raj Singh
20 Likes

Khamoshi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Raj Singh

As you were reading Shayari by Anand Raj Singh

Similar Writers

our suggestion based on Anand Raj Singh

Similar Moods

As you were reading Khamoshi Shayari Shayari