ishq us ko mujh se hai ya tha kabhi | इश्क़ उस को मुझ से है या था कभी - Anand Verma

ishq us ko mujh se hai ya tha kabhi
mar ke bhi main jaan na paaya kabhi

fikr mujh se poochhti hai raat-din
neend hai phir kyun nahin sota kabhi

daayron ke daayere hai sab jagah
dayra bhi khush nahin hoga kabhi

kaatne par saanp ke kuchh na hua
daantne par us ke main roya kabhi

waqt mujh ko har dafa pakde rakha
waqt ko main na pakad paaya kabhi

boond hi baaki bachi hai ishq ki
bah raha hota tha ik jharna kabhi

aaj bhi aanand hans kar hi mila
dard us ka kam nahin hoga kabhi

इश्क़ उस को मुझ से है या था कभी
मर के भी मैं जान न पाया कभी

फ़िक्र मुझ से पूछती है रात-दिन
नींद है फिर क्यों नहीं सोता कभी

दाएरों के दाएरे है सब जगह
दायरा भी ख़ुश नहीं होगा कभी

काटने पर साँप के कुछ न हुआ
डाँटने पर उस के मैं रोया कभी

वक़्त मुझ को हर दफ़ा पकड़े रखा
वक़्त को मैं न पकड़ पाया कभी

बूँद ही बाक़ी बची है इश्क़ की
बह रहा होता था इक झरना कभी

आज भी 'आनंद' हँस कर ही मिला
दर्द उस का कम नहीं होगा कभी

- Anand Verma
0 Likes

Neend Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Verma

As you were reading Shayari by Anand Verma

Similar Writers

our suggestion based on Anand Verma

Similar Moods

As you were reading Neend Shayari Shayari