pata mujh ko hai pehle se use inkaar karna hai | पता मुझ को है पहले से उसे इंकार करना है - Anand Verma

pata mujh ko hai pehle se use inkaar karna hai
tasalli ke liye mujh ko magar izhaar karna hai

koi taweez mil jaaye ki ye ichchha kare poori
bahut vo door hai lekin mujhe deedaar karna hai

iraada kya hai meri jaan bahut nazdeek baithi ho
qatl karna hai ya ham do ko do se chaar karna hai

nazar un se ye sande ko baagheche mein mili aisi
ki ab hafta ke har din ko mujhe itwaar. karna hai

sitam karne ko baithi hai magar koi use kah do
abhi kaccha hai dil is ko zara taiyyaar karna hai

meri kashti ko lahren tod baithi hain to ab mujh ko
kinaare par khade ho kar samundar paar karna hai

पता मुझ को है पहले से उसे इंकार करना है
तसल्ली के लिए मुझ को मगर इज़हार करना है

कोई तावीज़ मिल जाए कि ये इच्छा करे पूरी
बहुत वो दूर है लेकिन मुझे दीदार करना है

इरादा क्या है मेरी जाँ बहुत नज़दीक बैठी हो
क़त्ल करना है या हम दो को दो से चार करना है

नज़र उन से ये संडे को बाग़ीचे में मिली ऐसी
कि अब हफ़्ते के हर दिन को मुझे इतवार करना है

सितम करने को बैठी है मगर कोई उसे कह दो
अभी कच्चा है दिल इस को ज़रा तय्यार करना है

मिरी कश्ती को लहरें तोड़ बैठी हैं तो अब मुझ को
किनारे पर खड़े हो कर समुंदर पार करना है

- Anand Verma
1 Like

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anand Verma

As you were reading Shayari by Anand Verma

Similar Writers

our suggestion based on Anand Verma

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari