ab aur dam na ghute raushni ka kamre mein | अब और दम न घुटे रौशनी का कमरे में - Ashu Mishra

ab aur dam na ghute raushni ka kamre mein
dariche vaa hon ujaalon ki daud poori ho

jo khwaab aayein to dekhoon tujhe main jee-bhar ke
ki neend aaye to khwaabon ki daud poori ho

koi badhaaye zara aasmaan ki wusa'at
main chahta hoon parindon ki daud poori ho

kisi azaab se ruk jaaye raqs qaateel ka
gharo ko lautte bacchon ki daud poori ho

main tere hijr ke aalam mein jee nahin saka
so ab yahi ho ki saanson ki daud poori ho

अब और दम न घुटे रौशनी का कमरे में
दरीचे वा हों उजालों की दौड़ पूरी हो

जो ख़्वाब आएँ तो देखूँ तुझे मैं जी-भर के
कि नींद आए तो ख़्वाबों की दौड़ पूरी हो

कोई बढ़ाए ज़रा आसमान की वुसअ'त
मैं चाहता हूँ परिंदों की दौड़ पूरी हो

किसी अज़ाब से रुक जाए रक़्स क़ातिल का
घरों को लौटते बच्चों की दौड़ पूरी हो

मैं तेरे हिज्र के आलम में जी नहीं सकता
सो अब यही हो कि साँसों की दौड़ पूरी हो

- Ashu Mishra
0 Likes

Breakup Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ashu Mishra

As you were reading Shayari by Ashu Mishra

Similar Writers

our suggestion based on Ashu Mishra

Similar Moods

As you were reading Breakup Shayari Shayari